कैबिनेट विस्तार से कुशवाहा समाज नाराज, कहा-जिसे मंत्री बनाया यूपी चुनाव मे उससे हीं वोट लेना  

0

परवेज अख्तर/सिवान: राजद नेता अमित कुमार पप्पू कुशवाहा ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा की राम मंदिर ट्रस्ट में कुशवंशियों के जगह नही मिलने से इस समाज के बीच पहले से हीं नाराजगी है.बुधवार को केन्द्र में मोदी कैबिनेट का विस्तार हुआ.कुशवाहा समाज के लोगों को उम्मीद थी कि इस विस्तार मे कुशवाहों को भी उचित सम्मान दिया जाएगा.पहले से हीं कुशवाहा समाज के एकाध कुशवाहा नेताओं के मंत्री बनाए जाने की खबरें भी चल रही थी.मगर जब बुधवार शाम को रिजल्ट सामने आया तो सबकुछ स्पष्ट हो गया.किसी कुशवाहा को जगह नही दिया गया था.यह पता चलने के बाद कुशवाहा समाज के लोगों मे भारी नाराजगी और आक्रोश देखने को मिला.जिसे सोशल मीडिया पर व्यक्त भी किया.यूपी चुनाव जल्द हीं आने वाला है,अब देखने वाली बात है कुशवाहा समाज के लोगों का क्या रूख होगा?सोशल मीडिया पर कुशवाहो ने लिखा-एनडीए कुशवाहा विरोधी है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

naraj neta

सत्ताधारियों के द्वारा कुशवाहा समाज पर घात हुआ है.कुछ लोगों का कहना है-जिससे वोट लेना है,भाजपा ने उन्हें मंत्री बनाया.कुछ का कहना है-जिसे मंत्री बनाया,अब उससे हीं वोट लेना.वहीं कुछ का कहना है-अपमान का जहर पीकर कब तक भाजपा को वोट करेंगे.बता दें कि उत्तर प्रदेश मे कुशवाहा,शाक्य और मौर्य का वोट करीब 10% है.यह एक बहुत बड़ा आंकड़ा है.जिस तरह से कुशवाहों का राजनीतिक एकता बढ़ रहा है.अब देखने वाली बात है,कुशवाहा समाज को हल्के मे लेकर भाजपा ने गलती तो नही कर दी.2020 के बिहार विधानसभा चुनाव मे सभी ने देखा कि जदयू से नाराज होने के बाद कुशवाहो ने किस तरह वोट किया.जिसका खामियाजा जदयू को उठाना भी पड़ा.अब अगले साल के शुरूआत मे यूपी चुनाव होने वाला है.

यह बात तो स्पष्ट हो गया है कि एनडीए से कुशवाहा समाज का नाराजगी बढ़ता हीं जा रहा है.सबसे पहले 2017 मे चुनाव से पहले केशव मौर्य को भाजपा ने चेहरा बनाया.कुशवाहा समेत सभी पिछड़ी हिंदू जातियों ने भाजपा को एकतरफा वोट किया.मगर चुनाव के बाद किसी और को मुख्यमंत्री बना दिया गया.कुशवाहों का यह भी आरोप है-भाजपा ने मंडप पर दूल्हा बदल लिया.फिर 2019 मे राम मंदिर ट्रस्ट बना,जिसमें किसी कुशवंशी को कोई जगह नही मिला.अब मोदी कैबिनेट का विस्तार हुआ है,इसमे भी कुशवाहों को जगह नही दिया गया.वर्तमान कुशवाहा समाज भाजपा को पूर्ण रूप से बहिष्कार करने के स्थिति मे दिख रही है.अब देखने वाली बात है कि अंतत: 2022 मे यूपी चुनाव मे इस समाज क्या रूख होने वाला है ?