जहरीली शराब कांड पर बिहार के मद्य निषेद मंत्री का बयान, कहा- विपक्ष सुझाव दे उस पर करेंगे विचार, शराबबंदी नाकाम नहींं

0

पटना: बिहार में जहरीली शराब से हुई बेतिया और गोपालगंज में मौतों के बाद हड़कंप मचा है. विपक्ष सरकार से सवाल कर रहा है तो वहीं सत्ता पक्ष सफाई के साथ-साथ विपक्ष पर भी निशाना साध रहा है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

जहरीली शराब से हुई मौतों को लेकर शुक्रवार को बिहार सरकार के आबकारी मंत्री सुनील कुमार से ने बात की. इस दौरान मंत्री सुनील कुमार ने सफाई भी दी और साथ ही विपक्ष के सवालों का भी जवाब दिया. मंत्री सुनील कुमार ने कहा कि हम विपक्ष के सुझावों पर विचार करेंगे, लेकिन शराबबंदी नाकाम नहीं है।

सुनील कुमार ने कहा कि इस कानून को सर्वसम्मति से पारित किया गया था. इससे आज लोगों को फायदा हुआ है. महिलाओं का समर्थन है, उन्हें फायदे हुए हैं. इतना ही नहीं बल्कि शराबबंदी से दुर्घटनाओं में कमी आई है.

शराबबंदी नाकाम नहीं हुई है. हम समय-समय पर इसकी समीक्षा करते हैं. अब तक 60 हजार से अधिक वाहन सीज किए गए हैं. वहीं, पौने चार लाख के करीब गिरफ्तारी की गई है. गोपालगंज के खजूरबानी कांड में हमने कार्रवाई की. उस मामले में फांसी तक हुई. हम लगातार इस मामले में कार्रवाई कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार में शराब से हुए मौत के बाद शराब माफियाओं पर कार्रवाई की जा रही है। गोपालगंज और बेतिया में 22 लोगों की मौत हो चुकी है। जहीरली शराब के चलते बिहार में इस साल 40 मौत के मामले सामने आए हैं। जिसमें 700 पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया गया है।

आबकारी मंत्री सुनील कुमार ने आगे कहा कि लगातार इस कानून का उल्लंघन किया जा रहा है लेकिन जो भी इसमें शामिल है उसपर कार्रवाई हो रही है. थाना प्रभारियों पर कार्रवाई की गई है. इसमें कुछ अवैध कमाई के लिए लोग लगे हैं. चेक पोस्ट पर हर दिन हजारों गाड़ियां पास होती हैं. सूचना और जांच के बाद गिरफ्तारी होती है. जहां तक विपक्ष का प्रश्न है तो वो सुक्षाव दें हम विचार करेंगे. इस कानून को सर्वसम्मति से पारित किया गया है.