रईस को तलाश रही है नूर शब्बा, थाना बताने से कर रही इन्कार

0
nur sabba

मामला मुफ्फसिल थाने का

परवेज़ अख्तर/सिवान:- 23 अप्रैल की तड़के हथियार बंद अपराधियों ने एक यात्री की गोली मारकर निर्मम हत्या कर दी थी। यह हत्या जिले के पुलिस कप्तान के घर के पीछे, मुफ्फसिल थाना से महज दो सौ कदम की दूरी पर हुई। इसकी भनक तक किसी अधिकारी को नहीं लगी। इस मामले में एसपी ने कार्रवाई करते हुए गश्त पार्टी में तैनात पुअनि राजेंद्र सिंह को जांचोपरांत निलंबित कर दिया था, बावजूद इसके पुलिस के कान में जूं तक नहीं रेंग रही। ऐसे में अब खास तो दूर आम भी सुरक्षित नहीं हैं। वहीं दूसरी तरफ इस हत्या को बीते आज छह दिन हो गए। छह दिन में थानाध्यक्ष अभिजीत कुमार किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंचे हैं और कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। बात दें कि इस कांड में पुलिस ने तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया है। हिरासत में जिन्हें लिया गया है उनमें खुरमाबाद तकीया का रहने वाला रइस साईं, दूसरा रामू चौधरी, रामेश्वसर चौहान तथा सुनील के अलावा एक भूसा वाला भी है। हालांकि भूसा वाले को पुलिस ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया। जबकि एक अन्य को भी पुलिस ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया है। लेकिन जिन्हें पूछताछ के बाद भी नहीं छोड़ा गया है उनके परिजन परेशान हैं। सबसे पहले पुलिस ने इस मामले में खुरमाबाद तकीया की रहने वाली नूर शब्बा के देवर रइस साईं को हत्या के दिन ही पूछताछ के लिए उठा लिया। इसके बाद उसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई । जब परिजन उसकी तलाश में ललित बस स्टैंड पहुंचे तो उन्हें पता चला कि रइस की पिटाई करते हुए पुलिस उसे मंदिर के समीप से एक अन्य साथी के साथ उठा ले गई है। इस मामले में नूर शब्बा ने बताया कि 23 अप्रैल से ही पुलिस उससे पूछताछ कर रही है और जब थाने जाकर कुछ भी जानकारी ले रही हूं तो मुझे डांट फटकार कर जेल भेजने की धमकी देकर तथा महिला पुलिस को बुलाकर पिटाई कराने की धमकी थाना द्वारा दी जा रही है। ऐसे में अब परिजन को तो यह भी नहीं बताया जा रहा है कि रइस कहां है। नूर शब्बा ने बताया कि दो दिनों तक उससे मिलने दिया गया । लेकिन बाद में ना खाना ही लेकर थाने में जाने दिया जा रहा है और ना ही मिलने दिया जा रहा है। ऐसे में अब किसी अनहोनी की चिंता सता रही है। इधर सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पकड़े गए सभी संदिग्ध श्रीनगर के थे और पुलिस जहां घटना हुई है वहां गांजा पीने वाले नशेड़ियों को पकड़ कर किसी तरह से मामले का उद्भेदन करना चाहती है। बहरहाल अभी तक इस मामले में पुलिस किसी भी ठोस नतीजे तक नहीं पहुंच पाई है जिससे मृतक कौन और कहां का था इसकी जानकारी मिल सके।​

ghayal yuwak