महाराजगंज जिला नहीं बना तो होगा जेल भरो आंदोलन

0
maharajganj ko jila batao

परवेज अख्तर/सिवान : महाराजगंज शहर स्थित फुलेना शहीद समारक पर गुरुवार को महाराजगंज जिला बनाओ संघर्ष समिति द्वारा धरना-प्रदर्शन किया गया। धरने को संबोधित करते हुए संघर्ष समिति के संयोजक मुंशी सिंह ने कहा कि सरकार ने पिछले कई वर्षों से महाराजगंज को जिला बनाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है। उन्होंने कहा कि महाराजगंज अनुमंडल के साथ संसदीय क्षेत्र भी है जिसकी गरिमा को बरकरार रखना सरकार के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों का दायित्व बनता है। महाराजगंज की जनता पिछले कई वर्षों से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आश्वासन के बाद जिला बनाने की मांग करती चली आ रही है, लेकिन आज तक महाराजगंज को जिला बनाने की कोई भी प्रक्रिया सरकार द्वारा प्रारंभ नहीं किया गया। महाराजगंज जिला बनने के काबिल है या नहीं इसकी सरकार द्वारा स्वयं विभिन्न बिंदुओं पर जांच करनी चाहिए। उन्होंने प्रदर्शन के माध्यम से अंतिम ज्ञापन सौंपने की बात करते हुए कहा कि आज से जिला बनाने के लिए अंतिम निर्णायक लड़ाई प्रारंभ हो गई है। संघर्ष समिति के अमरेंद्र कुमार गौतम में कहा कि नीतीश सरकार नई-नई योजनाएं लेकर आई है, उसी योजना के माध्यम से महाराजगंज को जिला बनाने का कार्य भी मुख्यमंत्री को करना चाहिए। जिला बनाओ संघर्ष समिति के नागमणि सिंह ने कहा कि महाराजगंज की जनता को जिला मुख्यालय की दूरी तय करने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। पूर्व जिला पार्षद इंदु देवी ने कहा कि महाराजगंज जिला बनाओ आंदोलन तक तक प्रारंभ रहेगा, जब तक सफलता नहीं मिलती। उन्होंने कहा कि अगर महाराजगंज को जिला नहीं बनाया जाता तो हजारों की संख्या में महिला-पुरुष जेल भरो आंदोलन शुरू करेंगे। धरने के बाद समिति के सदस्यों ने अनुमंडल पदाधिकारी मंजीत कुमार को ज्ञापन सौंपा है। इस मौके पर राजकिशोर गुप्ता, दयाशंकर द्विवेदी, देवेंद्र कुमार अभय, रामराज प्रसाद, राहुल सिंह, मनीष कुमार पांडेय, मो. मुस्लिम, मार्कंडेय सिंह, बृजकिशोर सिंह, मो.कैफ, सुबोध सिंह, सुमित सिंह उर्फ दादा, रमेश उपाध्याय, श्रीराम प्रसाद, नागमणि सिंह, अमरेश कुमार, मनु कुमार, अभिषेक तिवारी, धर्मनाथ राय, कमला प्रसाद, जगदीश सिंह, सांसद प्रतिनिधि मोहन कुमार पदमाकर, सत्येंद्र यादव, भरत ठाकुर, अमरेंद्र कुमार गौतम, परशुराम सिंह, रामबाबू प्रसाद, सत्यदेव मांझी, वार्ड पार्षद सोहन चौधरी, जदयू व्यवसायी संघ के जिलाध्यक्ष लालबाबू प्रसाद, जिलाध्यक्ष जदयू पिछड़ा प्रकोष्ठ के सत्येंद्र ठाकुर,पूर्व जिप उपाध्यक्ष अजय मांझी समेत काफी संख्या में संघर्ष समिति के सदस्य मौजूद थे।