महाराजगंज थाना पुलिस वांक्षित अपराधी एंड ग्रुप से कर रही पूछ-ताछ

0

खुलेगा कई मामलों का राज

परवेज अख्तर/सिवान: जिस अपराधी की नाम सुनते हीं कई बड़े व्यवसायियोंव दबंगों के होस उड़ने लगते थे , महाराजगंज थाने में करीब आधे दर्जन केस का आरोपी , हत्या, चाकूबाजी ,रंगदारी के मामले दर्ज हैं . पुलिस इस ग्रुप को कई सालों से तलाश कर रही थी . आखिरकार ऋषभ पुलिस के हत्थे चढ़ गया . पुलिस ऋषभ और उसके साथ पकड़े गए युवकों से पूछ -ताछ कर रही है . बताया जाता है कि मुख्य आरोपी महाराजगंज निवासी ऋषभ कुमार 16 वर्ष के उम्र में अपराध जगत में लात रखा . 2017 में अपने हीं दोस्त से किसी बात को लेकर मामला तू-तू मैं-मैं से बढ़कर मारपीट में बदल गयी . इसके बाद ऋषभ ने बंगरा निवासी अपने दोस्त  सौरभ तिवारी पर  शहर के राजेंद्र चौक के समीप चाकू से  गोद मौत के घाट उतार देने का आरोप लगा .

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

प्राथमिकी महाराजगंज थाना में दर्ज हुई .  सौरभ गिरफ्तार हुआ और छपरा बाल सुधार गृह में रखा गया . जहां से पुलिस को चकमा देकर भाग निकला तब से फ़र्रार चल रहा था . उसके बाद महाराजगंज शहर में कई घटनाएं हुई जिसमें वह प्राथमिकी अभियुक्त होता गया . पुलिस उसके तलास में थी लेकिन पुलिस गिरफ्त से बाहर होता रहा . महाराजगंज में घटने वाली कई घटनाओं में उसका नाम जुटता गया . पुलिस का मानें तो ऋषभ घर से बाहर रहकर अपने गुर्गों से घटना का अंजाम दिलवाता था . महाराजगंज थाना के इंस्पेक्टर अशोक सिंह ने बताया  ,ऋषभ के अलावे उसके साथ महाराजगंज के आलोक कुमार, सोवल कुमार, बोजेन्द्र कुमार के साथ एक गोरेयाकोठी का निःशु कुमार भी पुलिस गिरफ्त में है . उनके पास से दो देशी कट्टा ,चार जिंदा कर्तुश भी बरामद हुए हैं .