महाराजगंज: बदमाशों में नहीं रह गया है खाकी वर्दी का खौफ !

0
  • क्षेत्र में लगातार हो रही हत्या की घटनाएं
  • प्राथमिकी दर्ज करने के बाद हाथ पर हाथ धरे बैठी है पुलिस
  • किसी भी बड़ी घटना में पुलिस को नहीं मिलती है सफलता

परवेज अख्तर/सिवान: महाराजगंज में बदमाशों के हौंसले सातवें आसमान पर है,जिस तरह से लगातार हत्या व फायरिंग की घटनाएं हो रही हैं,उसे देखकर तो लगता है कि पुलिस का तो खौफ बदमाशों में पूरी तरह से खत्म ही हो गया है.पुलिस की कार्रवाई सिर्फ प्राथमिकी दर्ज करने तक ही सिमट गई है.प्राथमिकी दर्ज करने के बाद पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रह जाती है, जिसका नतीजा है कि किसी भी बड़ी घटना में पुलिस को पूरी सफलता नहीं मिलती है. खासकर महाराजगंज में पिछले कुछ दिनों हुई हत्या व फायरिंग की घटनाओं पर नजर डालें,तो पुलिस पूरी तरह से विफल ही रही है.लगभग सभी घटनाओं में पुलिस की जांच दो कदम चलकर ठहर जाती है. अधिकतर घटनाओं में मास्टरमाइंड व मुख्य अभियुक्त पुलिस की गिरफ्त में नहीं आते हैं.खासकर आपसी विवाद हो या भूमि विवाद के लिए जारी खूनी संघर्ष पर विराम लगाने में पुलिस पूरी तरह से नाकाम ही हुई है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

चाहे वह महाराजगंज थाना क्षेत्र के नेरूआ में 20 मई को लूटपाट के विरुद्ध करने पर सागर साह की हत्या का मामला हो,या आक्रोशीत लोगों ने संजू देवी को मारपीट व उन्की पुत्री रुकसाना उर्फ भूअरी कुमारी को आग के हवाले कर हत्या करने का मामला हो,या थाना क्षेत्र के हरकेशपुर गांव में 31 मई को जमीन विवाद को लेकर चंदन कुमार की हत्या हो,महाराजगंज थाना क्षेत्र के रिसौरा गांव में 14 जून को मछली व्यवसायी प्रदीप कुमार पटेल की हत्या हो,या मैनेजर बांसफोर को मारपीट कर हत्या हो.या बिजली कर्मियों पर नखासचौक के समीप अपराधियों द्वारा हवाई फायरिंग का हमला हो, क्षेत्र में आए दिन किसी न किसी घटना को अंजाम दे रहे हैं.पुलिस इनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश देने का दावा कर रही है.लेकिन उनके हाथ कुछ लग ही नही रहा है.

कार्रवाई के नाम पर केवल खानापूर्ति ही हो रही है.इस तरह की वारदातों से क्षेत्रवासी सकते मे है.उनका मानना है कि अपराधियों मे पुलिस का खौफ कम हो रहा है,तभी घटनाओं पर अंकुश नहीं लग पा रहा है.अपराधी घटनाओं को अंजाम देने के बाद आराम से सुरक्षित अपने-अपने ठिकाने पर चले जा रहे हैं.ऐसे में पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगना लाजमी है.महाराजगंज अपराधियों के लिए सेफ जोन बन गया है.दिन हो या रात अपराधी अपनी इच्छानुसार घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं.आश्चर्य तो इस बात की है कि पुलिस के लिए अधिकांश घटना अबूझ पहेली बनकर रह गई है. यही वजह है कि अपराधियों का मनोबल बढ़ता जा रहा है.जिससे आमजनों मे दहशत का माहौल कायम हो गया है लोग अपने आप को असुरक्षित महसूस करने लगे हैं. लोगों का कहना है कि कब किसके साथ क्या घट जाए पता नहीं.

क्या कहते हैं एसडीपीओ

इनदिनों जो भी घटनाएं हुई हैं, उन पर पुलिस कार्य कर रही है.जल्द ही उनका पर्दाफाश किया जाएगा.अपराध की रोकथाम के लिए थानाध्यक्षों को सतर्कता बरतने के आदेश दिए गए हैं. किसी भी कीमत पर अपराधियों को बक्सा नहीं जाएगा.

पोलस्त कुमार, एसडीपीओ, महाराजगंज