मैरवा: पूर्व विधायक त्रिभुवन सिंह के निधन पर जिले में शोक की लहर

0
dead

परवेज अख्तर/सिवान: पूर्व विधायक डा त्रिभुवन सिंह के निधन पर जिले में शोक की लहर है। कई राजनेताओं व अन्य संगठनों ने शोक जाहिर किया है। वे 1971 के भारत – पाक युद्व में देश की तरफ से लड़ाई की मैदान में उतरे थे। वे लगभग एक दशक तक सेना में रहे। सेना के एएमसी कोर में थे। सेना में बतौर चिकित्सक चुने गये थे। सेना छोड़ने के दौरान वे कैप्टन रैंक तक पहुंचे थे। सेना में रहने के दौरान कई जगह सेवा दी। उन्होंने पटना से एमबीबीएस की पढ़ाई की थी। पढ़ाई के बाद सेना में देश की सेवा के लिए भर्ती हुए थे। भारत – पाक युद्व के दौरान सेना में अपना पराक्रम दिखाया। सेना में रहने के दौरान चिकित्सा के साथ हथियार चलाने में माहिर थे। वे कई गन के साथ नियमित अभ्यास करते थे। उन दिनों डर्मेटोलाजिस्ट के रूप में उनकी पहचान देश के गिने – चुने चिकित्सकों में होने लगी थी। आज उनके निधन के बाद क्षेत्र के लोग उनकी भूमिका को याद कर रहे हैं। 80 साल में उनके निधन की खबर के बाद क्षेत्र में शोक की लहर है। उनका अंतिम संस्कार गुरुवार को किया जाएगा।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

शिक्षा और चिकत्सा के क्षेत्र में किया काम

डा त्रिभुवन नारायण सिंह समाज सेवा से जुड़े रहे। निधन के कुछ दिन पहले तक समाज की सेवा कर रहे थे। शुरूआत में उन्होंने हरेराम कालेज की नींव रखने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। कालेज को मान्यता मिलने के दौरान वे कालेज के समिति के सचिव थे। आज इस कालेज से हजारों छात्रों को उच्च शिक्षा ग्रहण करने में सहूलियत होती है। शिक्षा के साथ चिकित्सा के क्षेत्र के लिए भी काम किया। राजेन्द्र सेवाश्रम के मुख्य चिकित्सक वर्ग में शामिल रहे। मैरवा में मेडिकल कालेज खोलने की पहल की थी। उस समय उनके बुलाने पर पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार ने मेडिकल कालेज खोलने के संभावना को लेकर एक दशक पूर्व में राजेन्द्र सेवाश्रम का दौरा किया था। मेडिकल कालेज को लेकर कई बाद दिल्ली में कांग्रेस के नेता के साथ मुख्यमंत्री से मुलाकात किया था। पूरे जीवन काल में राजेन्द्र सेवाश्रम के जीर्णोदार को लेकर प्रयासरत थे। उनकी पहल के बाद मेडिकल कालेज की मांग समय के साथ तेज हो गयी। आज राजेन्द्र सेवाश्रम में नहीं,लेकिन कृषि फार्म में मेडिकल कालेज बन रहा है। परिवार कल्याण विभाग के अध्यक्ष रहने के दौरान क्षेत्र में चिकित्सा के क्षेत्र में काम किया। मैरवा के कोड़रा और नौतन प्रखंड में एक अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की स्थापना कराने में अपनी भूमिका निभाया था।