जानलेवा हमले के विरोध में माले ने निकाला प्रतिवाद मार्च

0

परवेज अख्तर/सिवान : हुसैनगंज प्रखंड के बघौनी पैक्स अध्यक्ष पर जानलेवा हमला के विरोध में भाकपा माले कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को शहर में जनप्रतिवाद मार्च निकाला। प्रतिवाद मार्च पार्टी कार्यालय खुरमाबाद से चल जेपी चौक पहुंचा जहां सभा में तब्दील हो गया। सभा को संबोधित करते हुए जिला सचिव नैमुद्दीन अंसारी ने कहा कि पैक्स अध्यक्ष एवं माले नेता शफी अहमद पर तीसरी बार हमला हुआ है। घटना के 24 घंटा बीत जाने के बाद भी जिला प्रशासन ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई। सिवान सहित पूरे बिहार में अपराध की घटनाएं बढ़ी है। उन्होंने कहा कि नौतन सेमरिया पैक्स अध्यक्ष पर गोली चली, गुठनी जतौर के स्कूल संचालक की हत्या दिनदहाड़े कर दी गई, ये सभी घटनाएं अपने आप में इस बात की गवाह है कि सुशासन की आड़ में अपराध फलफूल रहा है। जनता की जान माल, इज्जत, मर्यादा की कोई सुरक्षा नहीं है। पूर्व विधायक अमरनाथ यादव ने कहा कि देश में भाजपा और बिहार में भी अघोषित भाजपा की सरकार है। देश में भाजपा उपचुनाव में हारी है, इसलिए 2019 का लोकसभा चुनाव सामान्य माहौल में नहीं होगा। उसी के तहत राजनैतिक हत्याएं हो रही है। उन्होंने कहा कि जब जनप्रतिनिधि पर हमला होता है, प्रशासन हरकत में नहीं आती है तो आम लोगों का क्या होगा। किसान नेता जयनाथ यादव ने कहा कि देश की जनता का सरकार प्रशासन और न्यायपालिका से भरोसा उठता जा रहा है। अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं एवं निर्दोष जेल की हवा खा रहे हैं। यह कैसा इंसाफ है। सफी अहमद ने कहा कि हमला करने वाले गिरफ्तार नहीं हुई तो आगे बड़ा आंदोलन किया जाएगा। इसके लिए प्रदेश एवं देश की जनता को जागरूक होना होगा। इस मौके पर रमेश प्रसाद, आइसा नेता विकास यादव, उमाशंकर राम, पिंटू कुमार, सुरेंद्र यादव, गौतम पांडेय, उमेश प्रसाद, प्रदीप कुशवाहा, हृदया यादव, जिला पार्षद शीतल पासवान आदि उपस्थित थे।

केंद्र सरकार की तानाशाही के विरोध में आइसा ने निकाला प्रतिवाद मार्च

आइसा की जिला इकाई ने राज्य पार्षद एवं सिवान संयोजक विकास यादव के नेतृत्व में गुरुवार को एक मार्च निकाला और जेपी चौक पहुंच सभा की। सभा को संबोधित करते हुए छात्र नेता विकास यादव ने कहा कि मोदी की सरकार पूरे देश के साथ धोखा कर रही है। खासकर छात्र नौजवानों के साथ। शिक्षा किसी देश एवं समाज के विकास की पूंजी होती है। देश में बड़े मोदी और बिहार में छोटे मोदी ने नीतीश कुमार से मिलकर शिक्षा को चौपट कर दिया है। उन्होंने कहा कि डीएवी पीजी कॉलेज में 126 की जगह मात्र 22 प्रोफेसर हैं। बहुत सारे विभागों में ताला लगा हुआ है। छात्र कोचिंग करने को विवश हैं जहां उनका आर्थिक शोषण हो रहा है। उन्होंने कहा कि आज 42 करोड़ शिक्षित बेरोजगार हैं जो रोजगार के अभाव में दर-दर भटक रहे हैं। उन्होंने युवाओं को जागरूक होने का आह्वान किया।