माता जानकी की मूर्ति लकड़ी दरगाह गांव के बाहर खेत से पुलिस ने किया बरामद

0
police

परवेज अख्तर/सिवान : जिले के बड़हरिया थाना क्षेत्र के कैलखुर्द ज्ञानी मोड़ स्थित मंदिर से 25 फरवरी को मंदिर से चोरी गई राम जानकी लक्ष्मण मूर्ति शनिवर को लकड़ी दरगाह टोले गुलाम गौस मुहल्ला से बरामद होने की खबर मिलते ही सन सनी फैल गई। मूर्ति बरामद करने में पुलिस प्रशासन को अच्छी खासी मशक्कत करनी पड़ी। मूर्ति के संबंध में एक महिला ने इस मामले का खुलासा किया। जानकारी के अनुसार लकड़ी दरगाह गुलाम गौस टोला के निवासी बनारसी तुरहा की 55 वर्षिय विधवा पत्नी लखिया देवी उर्फ लक्ष्मीना देवी गांव में घूमकर तरबूज बेचने का काम करती है । शनिवर को भी लालमी तरबूज बेंचने के क्रम में वह लकड़ी दरगाह गांव में हजाम टोली में पहुंच गई ।जहां एक प्लास्टिक के पॉलीथिन के बैग में कुछ बच्चों को मूर्ति के साथ खेलते हुए देखा कि बच्चा मिया और दिन नाथ हजम के घर के बच्चों के साथ अन्य बच्चे खेल रहे हैं । महिला ने बच्चों से मूर्ति को देने का आग्रह किया और मूर्ति की पूजा पाठ करने का आरजू बिनती कर के लालमी खरबूजे से मूर्ति को बदल कर अपने घर ले आई। दो दिन पूजा करने के बाद जब मूर्ति के बारे में एक व्यक्ति ने आकर उससे कहा की मूर्तियां उसके दोस्त की हैं उसे वापस कर दो तो महिला सकते में आ गई । लखिया देवी उर्फ लक्ष्मीना देवी ने बताया कि उसने सोचा कि जब दूसरे समुदाय के लोगों को मूर्ति की पूजा पसंद ही नहीं है तो वे मूर्ति लेकर क्या करेंगे। गरीब महिला कुछ देर तक मूर्ति देने का विरोध किया लेकिन उक्त युवक मूर्ति लेने पर अड़ा रहा । महिला ने उक्त युवक को मूर्ति पुनः वापस कर दिया । लेकिन महिला ने इस बात की चर्चा अपने आस-पड़ोस के लोगों से की तो पता चला कि यह वही मूर्ति है जो करीब ढाई महीना पहले ज्ञानी मोड़ स्थित मंदिर से चोरी हुई थी । बनारसी तुरहा की पत्नी लखिया देवी उर्फ लक्ष्मीना देवी ने बताया कि वह खरबूज से बदलकर मूर्ति को लेकर आई थी लेकिन रिंकू मिया नाम का युवक जो लकड़ी दरगाह के ही निवासी हैं आकर लखिया देवी से झंझट करके उस मूर्ति को वापस ले गया। लाखिया देवी ने जो मूर्ति का हुलिया बताया उससे लोगों को यह मालूम होने लगा कि यह वही मूर्ति है जो ज्ञानी मोड़ से चोरी हुई थी। सनद रहे कि ज्ञानी मोड़ से 25 फरवरी की रात चोरों ने करीब दो सौ पहले की अष्टधातु की है जिसका दाम बाजारों में 30 लाख रुपये से भी अधिक की बताई जाती है । राम जानकी लक्ष्मण की मूर्ति चोरी में पुलिस ने उस समय पुजारी शरद नन्द तीसरी सहित चार-पांच लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लेकर पूछताछ किया था। मंदिर के पुजारी शरद नन्द तिवारी के बयान पर उस समय अज्ञात चोरों के खिलाफ प्राथमिकी बड़हरिया थाना में पुलिस ने दर्ज किया था। मूर्ति आस्था से जुड़ी हुई थी लोगों तक पहुंचे और लोगों ने धीरे-धीरे मुंह में कथा होना शुरू कर दिया और मूर्ति ले गए युवक से पुनः मूर्तियों की मांग शुरू कर दे झगड़े तक आ पहुंची तब तक पुलिस प्रशासन वहां पहुंच गई पुलिस को देखते ही रिंकू मिया भाग निकला । रिंकू मिया के भागने से पुलिस का शक और गहरा हो गया रिंकू की खोज के लिए कई घरों में तलाशी ली गई। रिंकू नाम का युवक भागेलु मिया का छोटा भाई है जो वहां के सरपंच मोख्तार मिया का खास आदमी बताया जाता है । कई घरों में तलाशी लेने के बाद पुलिस ने जो दबाव बनाया तो गांव के बगल के खेत से माता जानकी की मूर्ति पुलिस ने स्थीनिय चौकीदार के माध्यम से मूर्ति को बरामद कर लिया है। दो मूर्ति राम और लक्ष्म की मूर्ति की बरामदगी के लिए पुलिस छापामारी अभी कर रही है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal