रेल राज्य मंत्री ने महाराजगंज-मसरख बड़ी रेल लाइन का उद्घाटन किया

0
mantri

परवेज अख्तर/सिवान : रेल राज्य मंत्री एवं संचार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार श्री मनोज सिन्हा ने आज 21 अक्टूबर,2018 को वाराणसी मंडल के महाराजगंज रेलवे स्टेशन पर आयोजित समारोह में महाराजगंज-मसरख (36.2 किमी.) नई बड़ी रेल लाइन का उद्घाटन किया तथा इस इस खण्ड पर पहली यात्री गाड़ी को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर समारोह को सम्बोधित करते हुये रेल राज्य मंत्री एवं संचार राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार श्री मनोज सिन्हा ने कहा कि रेल मंत्रालय उत्तरप्रदेश एवं बिहार की लम्बित रेल परियोजनाओं पर विशेष ध्यान देकर कार्य को पूरा कर रहा है। इसी कड़ी में 36.2 किमी. लम्बी महाराजगंज-मसरख नई बड़ी लाइन का निर्माण लगभग रू. 412 करोड़ की लागत से पूरा किया गया है।इस लाइन के निर्माण हो जाने से महाराजगंज से मसरख की दूरी लगभग 70 किमी. कम हो गई है,क्योंकि अभी तक महाराजगंज से मसरख जाने के लिये छपरा अथवा थावे होकर जाना पड़ता था, जिससे 106 किमी. की दूरी तय करनी पड़ती थी, जो अब घटकर मात्र 36.2 किमी. रह जायेगी।इस लाइन के बन जाने से सीवान-छपरा जनपदों के सुदूरवर्ती पिछड़े क्षेत्रों के विकास को गति मिलेगी।इस नई रेल लाइन के बन जाने से महाराज एवं मसरख एक दूसरे से रेल सेवा से जुड़ गये हैं,जिससे इस क्षेत्र की जनता को आवागमन हेतु एक वैकल्पिक सुविधा उपलब्ध हो गई है। श्री सिन्हा ने इस खण्ड पर यात्री गाड़ियों का संचलन प्रारम्भ होने पर क्षेत्रीय जनता को बधाई दी।उन्होनें कहा कि इस रेल खण्ड पर स्थित महाराजगंज एवं बसन्तपुर हाॅल्ट स्टेशनों को रू. 7 – 7 करोड़ की अतिरिक्त लागत से क्राॅसिंग स्टेषन बनाने की मंजूरी दी गई है और इस कार्य हेतु निविदायें आमंत्रित की जा रही हैं। हमारा प्रयास है कि भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुये भारतीय रेल की आधारभूत संरचना को सुदृढ़ किया जाय, जिसके अन्तर्गत बड़े पैमाने पर आमान परिवर्तन, दोहरीकरण, नई रेल लाइन, विद्युतीकरण एवं कारखानों की स्थापना में यह कार्य तीव्र गति से हो रहा है। छपरा से इलाहाबाद तक दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण का कार्य तेजी से चल रहा है, जिसमें से औड़िहार से वाराणसी सिटी तक दोहरीकरण का कार्य पूरा हो चुका है। ताड़ीघाट-गाजीपुर-मऊ नई रेल लाइन निर्माण एवं गंगा नदी पर रेल सह सड़क पुल का कार्य तेजी से चल रहा है।mantri ka sabhaमाननीय प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में कैबिनेट कमेटी ने भारतीय रेल पर सभी बड़ी रेल लाइनों के विद्युतीकरण की मंजूरी प्रदान कर दी है।अभी हाल ही में वाराणसी-बलिया एवं गोरखपुर कैण्ट-पनियहवा रेल खण्डों के विद्युतीकरण का कार्य पूरा हो चुका है। कप्तानगंज-थावे, छपरा-बलिया एवं वाराणसी-इलाहाबाद रेल खण्डों के विद्युतीकरण कार्य तीव्र गति से चल रहा है। रेल राज्य मंत्री एवं संचार राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार श्री मनोज सिन्हा ने कहा कि रेल मंत्रालय द्वारा बिहार में रेलवे के इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।बिहार में रेलों के विकास हेतु वर्ष 2009 – 2014 तक के रू. 1133 करोड़ की तुलना में वर्ष 2014 – 2019 तक रू. 2983 करोड़ का आवंटन किया गया,जो कि 163 प्रतिशत अधिक है। बिहार में 2014 से अब तक 151 किमी.नई रेल लाइन का निर्माण,163 किमी. आमान परिवर्तन,478 किमी. रेल लाइनों का विद्युतीकरण करने के साथ ही 15 सड़क उपरिगामी पुलों का निर्माण पूरा किया गया तथा यात्री सुविधा हेतु 36 नई ट्रेनों का संचलन पूरा किया गया। यात्रियों की बढ़ती हुई भीड़ को देखते हुये रेल प्रशासन द्वारा अधिक से अधिक गाड़ियों का संचलन करने का प्रयास किया जा रहा है, ताकि सभी यात्रियों का सुगमतापूर्वक अपने गन्तव्य पर पहुँचाया जा सके। गाड़ियों एवं स्टेषनों पर साफ-सफाई प्राथमिकता के आधार पर की जा रहीहै।विकास कार्यों के लिये रेल मंत्रालय द्वारा पर्याप्त धन की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है,ताकि इस क्षेत्र के सभी पुरानी रेल परियोजनाओं को शीघ्रातिशीघ्र पूरा किया जा सके।रेल पहिया कारखाना, बेला में पहिया उत्पादन का कार्य प्रारम्भ हो चुका है और शीघ्र ही डीजल लोकोमोटिव फैक्ट्री,मढ़ौरा में डीजल इंजन का निर्माण प्रारम्भ हो जायेगा। समारोह को सम्बोधित करते हुये माननीय सांसद श्री जनार्दन सिंह सिग्रीवाल ने नई रेल लाइन के निर्माण एवं इस खण्ड पर सवारी गाड़ियों के संचलन प्रारम्भ करने हेतु माननीय रेल राज्य मंत्री एवं संचार राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार श्री मनोज सिन्हा के प्रति आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर माननीय पर्यटन मंत्री, बिहार सरकार श्री प्रमोद कुमार, माननीय विधायक श्री हेम नरायण साह, माननीय सदस्य विधान परिषद श्री वीरेन्द्र नरायन यादव, माननीय सदस्य विधान परिषद श्री केदार नाथ पाण्डेय, माननीय सदस्य विधान परिषद श्री सच्चिदानन्द राय,माननीय विधायिका,दुरौंधा श्रीमती कविता सिंह एवं माननीय सदस्य विधान परिषद श्री टुन्ना जी पाण्डेय ने समारोह को सम्बोधित किया। अतिथियों का स्वागत करते हुये अपर महाप्रबंधक, पूर्वोत्तर रेलवे श्री एस.एल. वर्मा ने कहा कि भारतीय रेल पर आ रही चुनौतियों का सामना करने के लिये आधारभूत संरचना के मजबूतीकरण का कार्य तीव्र गति से हो रहा है।इसी कड़ी में महाराजगंज-मसरख (36.2 किमी.) नई रेल लाइन का निर्माण कराया गया है, जिसका उद्घाटन माननीय रेल राज्य मंत्री एवं संचार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री मनोज सिन्हा जी द्वारा किया जा रहा है।इस नवनिर्मित रेल खण्ड पर यात्री यातायात का शुभारम्भ उद्घाटन विशेष गाड़ी को माननीय मुख्य अतिथि द्वारा झण्डी दिखाकर होगा और 22 अक्टूबर, 2018 से गाड़ी संख्या 55171 – 55172 दुरौंधा-महाराजगंज-मसरख सवारी गाड़ी का नियमित संचलन शुरू हो जायेगा। अपर महाप्रबंधक, पूर्वोत्तर रेलवे श्री वर्मा ने कहा कि रू. 412 करोड़ की अनुमानित लागत से निर्मित इस रेल लाइन का कार्य पूरी गुणवत्ता के साथ पूरा किया गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

इस खण्ड में 06 हाल्ट एवं 01 जं. स्टेषन है। इस नई रेल लाइन के निर्माण में 07 बड़े पुल, 40 छोटे पुल एवं 28 सीमित ऊँचाई के सब-वे का निर्माण पूरी गुणवत्ता के साथ कराया गया है। 03 सड़क उपरिगामी पुलो एवं 06 सीमित ऊँचाई के सब-वे का कार्य प्रगति पर है। इस खण्ड में पड़ने वाले 11 समपारों को मानवयुक्त बनाया गया है। महाराजगंज-मसरख नई बड़ी रेल लाइन के निर्माण हो जाने से इस क्षेत्र में यात्री परिवहन सुगमतापूर्वक किया जा सकेगा।साथ ही साथ महाराजगंज के लोगों को छपरा,थावे आने-जाने में अतिरिक्त वैकल्पिक मार्ग की सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। इस लाइन के निर्माण होने से इस क्षेत्र की सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक विकास को और गति मिलेगी। मंडल रेल प्रबन्धक,पूर्वोत्तर रेलवे,वाराणसी श्री एस.के.झा जी ने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया तथा मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री संजय यादव ने कार्यक्रम का संचालन किया।