नयी साल की सौगात: सदर अस्पताल को मिली सिटी स्कैन मशीन, एक सप्ताह में होगी चालू

0
  • सिटी स्कैन की सुविधा से सारण वासियों को मिलेगी राहत
  • निजी व सरकारी अस्पताल के मरीजों को मिलेगी सुविधा
  • अब सिटी स्कैन के लिए निजी अस्पताल में जाने से मिलेगी मुक्ति
  • प्राइवेट अस्पतालों में तीन गुना अधिक रेट पर होता है सिटी स्कैन

छपरा: बीमारी का इलाज किसी भी व्यक्ति के लिए परेशानी भरा होता है। खासकर जब डॉक्टर सीटी स्कैन कराने की सलाह दे तो मरीज के ऊपर पांच से सात हजार रुपये के खर्च का बोझ बढ़ जाता है। इस कारण गरीब मरीज सिटी स्कैन कराने की नहीं सोच पाता है। एक लंबे अरसे के बाद सारण वासियों को नयी सौगात मिल गयी है। छपरा सदर अस्पताल को सिटी स्कैन मशीन प्राप्त हो गयी है। करीब 1.25 करोड़ की लागत से इस मशीन की खरीदारी की गयी है। सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया नये साल में सारणवासियों के लिए खुशी की खबर है कि अब सिटी स्कैन के लिए पटना या किसी निजी अस्पताल में नहीं जाना पड़ेगा। अब सदर अस्पताल में यह यह सुविधा उपलब्ध होगी। सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने सिटी स्कैन रूम का निरीक्षण किया और एक सप्ताह के अंदर सेवा शुरू करने का निर्देश दिया। उन्होने बताया पीपीपी मोड में सिटी स्कैन मशीन का संचालन किया जायेगा। इसके लिए मरीजों को शुल्क भी देना पड़ेगा। निजी अस्पताल में जिस सिटी स्कैन का शुल्क 8 हजार रूपये है तो यहां लगभग 3 हजार रूपये देना होगा। सदर अस्पताल सिटी स्कैन मशीन से लैस हो जाएगा। इससे जिले के मरीजों को आर्थिक बोझ से राहत मिलेगी। फिलहाल इसकी सुविधा नहीं मिलने के कारण मरीजों को निजी क्लीनिकों का रुख करना पड़ता है। इस दौरान जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम अरविन्द कुमार, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अजय कुमार शर्मा, डीएस रामइकबाल प्रसाद, हेल्थ मैनेजर राजेश्वर प्रसाद, सीफार के प्रमंडलीय कार्यक्रम समन्वयक गणपत आर्यन, कल्पना कंपनी के प्रतिनिधि कुमार राणा समेत अन्य मौजूद थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

निजी व सरकारी अस्पताल के मरीजों को मिलेगी सुविधा

सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया यहां पर सिर्फ सरकारी ही नहीं बल्कि निजी अस्पताल के मरीज भी अपना सिटी स्कैन करा सकते हैं। जो निजी अस्पतालों से काफी कम शुल्क पर सिटी स्कैन किया जायेगा। यह सुविधा सभी तरह के लोगों के लिए है। यहां पर बाहर फ्लैक्स बोर्ड पर सिटी स्कैन के शुल्क के बारे में जानकारी प्रदर्शित कर दी गयी है। ताकि मरीजों को किसी तरह की परेशानी न हो सके।

सड़क दुघर्टना में घायल व्यक्तियों के इलाज में होगी सहुलियत

सिविल सर्जन ने कहा सिटी स्कैन की सुविधा नहीं होने से सदर अस्पताल में सड़क हादसे में घायल मरीजों के इलाज में काफी परेशानी होती थी। इस सुविधा के शुरू होने से उनका इलाज आसानी किया जा सकेग।

एक ही रूम में मिलेगी कई सुविधाएं

सदर अस्पताल के एक ही रूम में कई सुविधाओं को शुरू किया गया है। पहले से संचालित एक्सरे व अल्ट्रासाउंड कक्ष में ही सिटी स्कैन मशीन को स्थापित किया जा रहा है। मरीजों को इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा एक ही छत के नीचे कई सुविधाएं मिल सकेंगी।

कब पड़ती स्कैन की जरूरत

सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया सिटी स्कैन मशीन मुख्य रूप से सिर की बीमारी और सिर की गहरी चोट की जड़ तक पहुंचने का अच्छा साधन है। इसका पता चल जाने के बाद डॉक्टरों के लिए दवा और ऑपरेशन का चुनाव करना आसान हो जाता है। अचानक बेहोश होना, उल्टी अधिक होना, सिर में लगातार तेज दर्द बना रहना, धुंधला दिखना, हाथ और पैरों का काम नहीं करना या फिर सड़क दुर्घटना में सिर में चोट लगने पर चिकित्सक सिटी स्कैन की सलाह देते हैं।