अब पंचायत स्तर पर बनेंगे आयुष्मान भारत योजना के गोल्डन कार्ड: डीएम

0
dm
  • कोविड-19 से बचाव के लिए जारी निर्देशों का करना होगा पालन
  • कैंप मोड में गोल्डेन ई-कार्ड बनाने का जिलाधिकारी ने दिया निर्देश
  • सारण में अब तक 1.35 लाख से अधिक लोगों का बन चुका आयुष्मान कार्ड
  • जिले में लगभग 14 लाख लाभार्थी हैं लक्षित

छपरा: कोरोना काल में भी सरकार एवं स्वास्थ्य विभाग लोगों को बेहतर और समुचित स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने को लेकर पूरी तरह संकल्पित और कटिबद्ध है। इसी कड़ी में कोविड-19 के कारण बंद किए गए आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत गोल्डन कार्ड का कार्य फिर से शुरू कराने का निर्णय लिया गया है। इसको लेकर जिलाधिकारी सह जिला स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष सुब्रत कुमार सेन ने पत्र लिखकर निर्देश जारी किया है। स्वास्थ्य विभाग के सचिव लोकेश कुमार के निर्देश के आलोक में डीएम ने पत्र लिखकर जिला पंचायती राज पदाधिकारी, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं जिला प्रबंधक कॉमन सर्विस सेंटर को योजना को फिर सुचारू करने का निर्देश दिया है। कार्य में तेजी लाने एवं जल्द से जल्द अधिक से अधिक लोगों का कार्ड बनाने को लेकर पंचायत स्तर पर कार्ड बनाए जाने की रणनीति अपनाई गई है। ताकि, हर व्यक्ति आसानी के साथ अपना कार्ड बनवा सकें। हर हाल में तेजी के साथ कार्ड बनाने के लिए हर आवश्यक पहल करने को भी कहा है। डीएम ने बताया कि जिले के सभी जगहों पर गोल्डन कार्ड बनाने का कार्य शीघ्र शुरू होगा। इसके लिए आवश्यक तैयारियां की जा रही है और संबंधित पदाधिकारियों को शीघ्र कार्य शुरू कराने को लेकर आवश्यक निर्देश दिए गए हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
Webp.net-compress-image
a2

ayusman bharat yojna

पंचायत स्तर पर तैनात कार्यपालक सहायक बनाएंगे गोल्डन कार्ड

गोल्डन कार्ड बनाने के कार्य में तेजी लाने को लेकर पंचायत स्तर पर तैनात कार्यपालक सहायक को कार्ड बनाने की जिम्मेदारी दी गयी है, जो अपने-अपने क्षेत्र के लोगों का सुविधाजनक तरीके से गोल्डन कार्ड बनाएंगे। ताकि, निर्धारित तिथि तक सभी संबंधित लोगों का कार्ड बनाने का लक्ष्य पूरा किया जा सके और उन्हें इसका लाभ मिल सके।

घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगी आशा, सहयोग करेंगे जन प्रतिनिधि

इसके तहत स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी आशा कार्यकर्ता अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगी और कार्ड बनाने के लिए प्रेरित करेंगी। साथ ही कार्ड बनने के बाद इलाज में होने वाले सरकारी मदद की भी जानकारी देंगी। गोल्डन कार्ड बनवाने से एक भी लोग वंचित नहीं रहे, इसके लिए पंचायत स्तरीय जनप्रतिनिधि मुखिया, वार्ड सदस्य समेत अन्य जनप्रतिनिधि भी सहयोग करेंगे। साथ ही कार्ड बनाने को लेकर उन्हें जागरूक करेंगे।

कोविड-19 के सभी मानकों का रखा जाएगा ख्याल

गोल्डन कार्ड बनाने के दौरान कर्मी कोविड-19 के सभी मानकों का ख्याल रखेंगे और उसका शत प्रतिशत पालन करेंगे। स्वास्थ्य सुरक्षा समिति के सचिव द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि कर्मियों को मास्क व ग्लब्स का उपयोग, शारीरिक-दूरी का पालन एवं सैनिटाइजर का उपयोग सहित कोविड-19 से बचाव के लिए हर आवश्यक निर्देशों का पालन करने के निर्देश दिए गए हैं.