हे छठी मैया….. महापर्व की भक्ति में डूबा है बिहार

0

छठ गीतों से शहर हुआ गुंजायमान तो घरों में आंचलिक गीत की सुनाई दे रही है धुन

[परवेज अख्तर की विशेष रिपोर्ट]

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

लोक आस्था की भक्ति लोगों के सिर चढ़कर बोलने लगी है घाटों से लेकर गली मोहल्ले तक चकाचक हो गए हैं छठ गीतों से शहर गुंजायमान है तो घरों में आंचलिक गीत गूंज रहे हैं प्रशासन ने बिहार के सभी जिलों की सुरक्षा बढ़ा दी है जबकि नदी क्षेत्र में एनडीआरएफ की टीमों ने कमाल संभाल ली है।पटना में अशोक राजपथ पर वाहनों के परिचालन पर रोक लगा दी है।इसके अलावा मुजफ्फरपुर, दरभंगा, भागलपुर ,मुंगेर ,सीतामढ़ी ,सारण, गोपालगंज ,सिवान,जिलों में भी घाटों को सजाया गया है।हालांकि प्रशासन लगातार गुहार लगा रहा है कि लोग कोरोना की गाइडलाइन का पालन करें।घाटों पर प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी और पुलिस पदाधिकारियों को इसका सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया गया है।

राजधानी में कुल 107 घाट प्रशासन की ओर से बनाए गए हैं लेकिन 83 घाटों पर ही अर्घ दिए जाएंगे। इसके अलावा 71 तालाबों को भी अर्घ के लिए तैयार किए गए हैं।जिला प्रशासन की ओर से छठ घाटों पर विशेष इंतजाम किए गए हैं।महिलाओं के लिए  चेंजिंग रूम बनाया गया है।नदी में खतरे के निशान के साथ बैरिकेडिंग की गई है।हैलोजन लाइट के साथ सज धज तैयार हो रही है।भीड़ भाड़ नियंत्रण से लेकर अन्य संदिग्धों पर नजर रखने के लिए वाच टावर बनाए गए हैं। इसके अलावा पेयजल और शौचालय की भी व्यवस्था की गई है। बतादें कि आज व्रतियों ने खरना पूजा की जबकि कल शुक्रवार को अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को अर्घ देंगे।शनिवार को उदयीमान सूर्य को अर्घ देने के साथ ही इस महापर्व का समापन होगा।

प्रशासन इन घाटों को बताया खतरनाक

जिला प्रशासन ने पटना में 24 खतरनाक घाटों की सूची जारी की है। उसमें मीनार घाट, बिंद टोली घाट, बुद्धा घाट, मिश्री घाट, टीएन बनर्जी घाट, जजेस घाट,बंसी घाट, अंटा घाट,जहाज घाट,सिपाही घाट, बीएन कॉलेज घाट, बांकीपुर घाट ,खाजे कला घाट ,पत्थर घाट, अदरक घाट, पीरदमडिया घाट, नंद गोलाघाट, नूरुद्दीन घाट, बुंदेल घाट, दमराही घाट ,केशव राय घाट ,रिकाबगंज घाट और बांस घाट शामिल हैं।