AK-47 लेकर उत्पात मचाने वाले का करूंगा खुलेआम विरोध : ओम प्रकाश यादव

0
om-prakash-yadav-vs-raish-khan-vs-ajay-singh
  • एमएलसी पद के लिए उम्मीदवार की घोषणा के पूर्व हीं दो खेमे में बट गए एनडीए गठबंधन के शीर्ष नेतागण
  • निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मोहब्बत की भीख मांग रहे हैं खान ब्रदर्स के श्री रईस खान
  • सिवान के राजनीतिक गलियारों में राजनीतिक धुरंधर के नाम से मशहूर श्री मनोज सिंह का भी नाम सुर्खियों पर है
  • महागठबंधन की ओर से श्री विनोद जायसवाल दौरा कर सर्द मौसम को कर दिए हैं गर्म

✍️ परवेज अख्तर एडिटर इन चीफ :
(7543814786)

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

कुल्हाड़ी में लकड़ी का जस्ता ना होता,
तो लकड़ी के कटने का रास्ता ना होता !
——

AK-47 लेकर उत्पात मचाने वाले अपराधी चरित्र के व्यक्ति को अगर एनडीए गठबंधन अपना प्रत्याशी घोषित करती है तो मैं उसका खुलेआम विरोध करूंगा, अगर वहीं सभ्य लोगों को एनडीए गठबंधन अपना प्रत्याशी घोषित कर चुनावी मैदान में उतारती है तो मैं उसका पूर्ण रूप से समर्थन करूंगा। उक्त बातें एमएलसी पद के लिए होने जा रहे चुनाव के मद्देनजर सिवान से भाजपा के पूर्व सांसद श्री ओम प्रकाश यादव ने मीडिया के समक्ष आकर खुलेआम कही है। यहां बताते चलें की जैसे जैसे एमएलसी पद के लिए चुनाव नजदीक आते जा रहा है। वैसे-वैसे राजनीतिक गलियारों में एमएलसी पद के चुनाव के लिए सरगर्मी तेज होते जा रही है। राजनीतिक गलियारों में पक्ष हो या विपक्ष के लोग, एक दूसरे पर कटाक्ष करते नजर जा रहे हैं। यहां बताते चलें कि एमएलसी पद के लिए एनडीए गठबंधन की ओर से अब तक कोई चेहरा स्पष्ट रूप से सामने नहीं आ सका है। लेकिन अभी से हीं सिवान में एनडीए गठबंधन के शीर्ष नेतागण दो भागों में स्पष्ट रूप से बंटते नजर आ रहे हैं।

सिवान में एमएलसी पद के चुनाव के लिए एनडीए गठबंधन में खींचातानी की स्थिति बनी हुई है। यहां बताते चलें कि सिवान में जेडीयू समर्थित सांसद श्रीमती कविता सिंह का कब्जा है। जबकि उनके पति श्री अजय सिंह जेडीयू के वरिष्ठ लीडर के रूप में जाने जाते हैं। जेडीयू खेमे में एक चालाक खिलाड़ी के रूप में इनकी एक अलग पहचान है। जानकार बताते हैं कि पटना के जेडीयू खेमे में भी इनकी अच्छी खासी शीर्ष नेताओं में पकड़ है। शीर्ष नेताओं के पकड़ होने के नाते इन्होंने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर, सिवान से जेडीयू समर्थित प्रत्याशी अपनी धर्मपत्नी श्रीमती कविता सिंह को जेडीयू का सिंबल दिलवाकर चुनावी अखाड़े में उतारा था जबकि एनडीए गठबंधन ने बीते लोकसभा चुनाव के दरमियान सिवान से भाजपा के सीटिंग सांसद श्री ओम प्रकाश यादव को टिकट से वंचित रखा गया। एनडीए गठबंधन की ओर से श्रीमती कविता सिंह को पार्टी ने अपना उम्मीदवार घोषित किया और जेडीयू के सिंबल पर चुनाव के दरमियान श्रीमती कविता सिंह भारी मतों से सिवान के चुनकर मेंबर ऑफ पार्लियामेंट हो गईं।

यहां बीते विधानसभा चुनाव की बात करें तो वर्तमान सांसद श्रीमती कविता सिंह के पति जो दारौंदा विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव में एनडीए समर्थित उम्मीदवार बने। लेकिन एनडीए गठबंधन के प्रत्याशी होने के बावजूद भी सिवान से भाजपा के पूर्व सांसद श्री ओम प्रकाश यादव ने उनका साथ नहीं दिया और दूध में पड़ी मक्खी की तरह निकाल दिया। जिस कारण यहां से भाजपा से बागी होकर चुनावी अखाड़े में उतरे श्री कर्णजीत सिंह उर्फ ब्यास सिंह को यहां से जीत मिली। इस दौरान एनडीए गठबंधन की ओर से प्रत्याशी बने श्री अजय सिंह को हार का मुंह देखना पड़ा था। बहरहाल चाहे जो हो अभी तक एनडीए गठबंधन की ओर से पार्टी ने अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया है कि तब तक एनडीए गठबंधन के शीर्ष नेताओं में एक दूसरे के प्रति कटाक्ष लगातार जारी है।

kavita singh

आज भाजपा के पूर्व सांसद श्री ओमप्रकाश यादव ने मीडिया के समक्ष खुलेआम यह बातें कह कर राजनीतिक गलियारों में और भूचाल मचा दिया है कि AK-47 लेकर घूमने वाले लोगों को अगर एनडीए गठबंधन की ओर से पार्टी अपना उम्मीदवार घोषित करती है तो मैं उसका खुलेआम विरोध करूंगा। उधर पूर्व सांसद श्री ओम प्रकाश यादव के बयानों से आप भली-भांति भांप सकते हैं कि उनका इशारा किस नेता पर हो सकता है! बीते विधानसभा चुनाव के दरमियान उन्होंने सिवान से जेडीयू सांसद श्रीमती कविता सिंह के पति श्री अजय सिंह को क्या-क्या अपने चुनावी भाषण के दौरान नहीं बोला गया। विधानसभा चुनाव के दरमियान सिवान से भाजपा के पूर्व सांसद श्री ओम प्रकाश यादव का लगातार कटाक्ष जारी था। जिस कारण बीते विधानसभा चुनाव के दरमियान दारौंदा विधानसभा क्षेत्र में एनडीए गठबंधन के नेतागण दो भागों में बंट गए थे।अंत में इसका परिणाम यह आया कि इस विधानसभा क्षेत्र से भाजपा से बागी होकर चुनावी अखाड़े में उतरे श्री कर्णजित सिंह उर्फ ब्यास सिंह को जीत हासिल हुई। जिस कारण ब्यास रूपी नामक एक्सप्रेस ट्रेन जो दारौंदा से खुलकर अपने नियति समय पर पटना के विधानसभा तक दोबारा पहुंची।

सिवान से भाजपा के पूर्व सांसद श्री ओम प्रकाश यादव ने कहा कि एनडीए गठबंधन दागी व्यक्ति को टिकट देने से परहेज करे। उन्होंने कहा कि वैसे व्यक्ति को एनडीए गठबंधन टिकट देकर एमएलसी पद का उम्मीदवार घोषित न करें, जिसके विरुद्ध कई मामले न्यायालय में लंबित हों। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि सिवान की धरती हमेशा अपराधिक मामले से कलंकित रही है। इसे और कलंकित करने से बचाया जाए। यह मौलाना मजहरूल हक और राजेंद्र बाबू की धरती है। अंत में श्री यादव ने सिवान ऑनलाइन न्यूज़ से विशेष वार्ता के दौरान शायराना अंदाज में कहा कि “जरा उनसे तो कह दो कि वे रंजोगम पैदा न करें, चले कांटों पे मगर फूलों से दोस्ती ना करें “!

यहां बताते चलें कि एमएलसी पद के प्रत्याशी एनडीए गठबंधन की ओर से कौन-कौन से हैं यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। लेकिन भाजपा के पूर्व सांसद श्री ओम प्रकाश यादव के बयानों से यह स्पष्ट होते जा रहा है कि सिवान के जेडीयू सांसद श्रीमती कविता सिंह के पति श्री अजय सिंह भी टिकट की होड़ में शामिल हैं।

उधर सिवान के राजनीतिक गलियारों में राजनीतिक धुरंधर के नाम से मशहूर श्री मनोज सिंह का भी नाम सुर्खियों पर है। जबकि बड़हरिया के पूर्व जेडीयू विधायक श्री श्याम बहादुर सिंह के करीबी, खान ब्रदर्स के श्री रईस खान का भी नाम इन दिनों अपने उरूज पर है। लेकिन क्षेत्र भ्रमण के दौरान श्री रईस खान अपने आपको आज एक पखवारे के अंदर निर्दलीय प्रत्याशी शब्द से संबोधन कर त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जीते हुए जनप्रतिनिधियों के समक्ष जाकर मोहब्बत की भीख मांगते नजर आ रहे हैं। जबकि सिवान के राजनीतिक गलियारों में राजनीती के धुरंधर के नाम से मशहूर श्री मनोज सिंह का भी नाम सुर्खियों पर है। श्री मनोज सिंह जो सिवान के रघुनाथपुर से लोजपा के सिंबल पर विधानसभा के चुनाव में अपना भाग्य आजमा चुके हैं लेकिन उन्हें कामयाबी हासिल नहीं हुई। यहां बताते चलें कि आगामी एमएलसी पद के लिए होने जा रहे चुनाव के मद्देनजर सबसे ज्यादा क्षेत्र भ्रमण खान ब्रदर्स के श्री रईस खान के द्वारा किया जा रहा है। जबकि महागठबंधन की ओर से क्षेत्र भ्रमण में श्री विनोद जायसवाल भी पीछे नहीं है। बहरहाल चाहे जो हो। लेकिन आज सिवान से भाजपा के पूर्व सांसद रहे श्री ओम प्रकाश यादव ने मीडिया के समक्ष अपना बयान देकर राजनीतिक गलियारों में भूचाल मचा दिया है।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here