पटना: जहरीली शराब कांड में दो दारोगा सस्पेंड, 50 पुलिस पदाधिकारियों को किया गया ट्रांसफर

0

पटना: बिहार के चर्चित मामलों में से एक नवादा जहरीली शराबकांड में दो और दारोगा को मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। दोनों पर नगर थाना क्षेत्र में जहरीली(नकली) शराब पीने से हुई कथित 15 मौत मामले में लापरवाही बरतने के आरोप थे। जांच में पुष्टि होने पर उन पर गाज गिरी है। एसपी धुरत सायली सावलाराम ने इनके निलंबन की पुष्टि की है। बता दें कि अब तक जहरीली शराब मामले में नवादा के चार पदाधिकारियों पर गाज गिर चुकी है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

वहीं एसपी धुरत सायली सावलाराम ने विधि व्यवस्था को लेकर जिले में व्यापक पैमाने पर पुलिस पदाधिकारियों को इधर से उधर किया है। इससे संबंधित जारी सूची में जिले के विभिन्न थानों में तैनात 50 पुलिस पदाधिकारियों को इधर से उधर किया गया है। इनमें 13 दारोगा व 37 जमादार शामिल हैं। 10 अप्रैल को जारी अधिसूचना के मुताबिक सूची में सभी वैसे पदाधिकारियों के नाम शामिल हैं, जो अपना दो वर्षों का कार्यकाल एक थाने में पूरा कर चुके हैं। इन सभी का तबादला उनके पूर्व के निर्धारित विंग अनुसंधान अथवा विधि व्यवस्था में किया गया है।

13 दारोगा में नगर थाना में पदस्थापित एसआई नागेन्द्र ठाकुर को वारिसलीगंज थाना, मो. शमशाद को पकरीबरावां थाना, संजय कुमार वर्मा को नरहट थाना व रामभजन सिंह को नारदीगंज थाना, हिसुआ के लक्ष्मण यादव को रोह थाना, नारदीगंज के मदन कुमार सिंह को रजौली थाना, नरहट के कृष्ण कुमार वर्मा को रजौली थाना, सिरदला के संतोष कुमार गुप्ता को नगर थाना, रजौली के संजय कुमार सिन्हा को नगर थाना, अकबरपुर के राजनंदन पासवान को नगर थाना, रोह के माबूद आलम को हिसुआ थाना, पकरीबरावां के रामप्रवेश राय को नगर थाना व वारिसलीगंज के अशोक मंडल को अकबरपुर थाना भेजा गया है। इन्हें अविलम्ब अपने नव पदस्थापित जगह पर योगदान देकर अधोहस्ताक्षरी को रिपोर्ट करने का निर्देश दिया गया है।

सभी थानों के ड्राइवर भी बदले गये

नवादा। वर्षों से एक थाने में पदस्थापित पुलिस ड्राइवरों को भी इधर से उधर कर दिया गया है। एसपी के मुताबिक जिले के सभी थानों व ओपी के ड्राइवरों को बदल दिया गया है। इनके तबादले की सूची जारी कर दी गयी है व अविलम्ब इन्हें नये जगहों पर योगदान देने के निर्देश दिये गये हैं। बता दें कि एसपी को थानास्तर पर व्याप्त भ्रष्टाचार में पुलिस ड्राइवरों की अहम भूमिका की जानकारी मिली थी। इसका खुलासा नगर थाना के ड्राइवर अभिनंदन के भ्रष्टाचार की पोल खुलने के बाद हुआ। एसपी ने अभिनदंन को पहले लाइन क्लोज किया व बाद में सभी का तबादला दूसरे थानों में कर दिया।

अब तक चार पर गिर चुकी है गाज

नकली शराब मामले में अब तक नवादा के चार पदाधिकारियों पर गाज गिर चुकी है। नगर थानाध्यक्ष टीएन तिवारी व मद्य निषेध विभाग के दारोगा नागेन्द्र प्रसाद को नकली शराब मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में पूर्व में निलंबित किया जा चुका है। टीएन तिवारी को मगध रेंज के आईजी अमित लोढ़ा की स्वीकृति पर एसपी ने निलंबित कर दिया था, जबकि नवादा अंचल में पदस्थापित नागेन्द्र प्रसाद को डीएम की अनुशंसा पर मद्य निषेध सह उत्पाद विभाग के आईजी अमृत राज द्वारा निलंबित कर दिया गया था। रविवार को नगर थाने में पदस्थापित दो दारोगा लापरवाही मामले में निलंबित कर दिये गये। चर्चा है कि कई अन्य पदाधिकारी अभी भी कार्रवाई की जद में हैं। इनके विरुद्ध जांच चल रही है। जांच में दोषी पाये जाने पर इन पर भी गाज गिर सकती है।

कौआकोल थानाध्यक्ष व जमादार सस्पेंड

एसपी ने कौआकोल थानाध्यक्ष मनोज कुमार और एक जमादार को निलंबित कर दिया है। कौआकोल थानाध्यक्ष मनोज कुमार व थाना में पदस्थापित एक जमादार को शराब मामले से संबंधित पुराने आरोपों के मद्देनजर निलंबित किया गया है।