सिवान शहर में पर्व में खरीदारी करने निकले लोग हो रहे है जाम से परेशान

0

परवेज़ अख्तर/सिवान:
चार दिवसीय छठ महापर्व की खरीदारी करने मंगलवार को निकले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। शहर के दरबार रोड व थाना रोड समेत कई इलाके में भीषण जाम देखा गया। त्योहारी सीजन होने से शहर के अलावा ग्रामीण इलाके से भी बड़ी संख्या में छठ पूजा की खरीदारी करने लोग शहर आ रहे हैं, जहां भीषण जाम से लोगों को घंटों जूझना पड़ रहा है। सड़क के दोनों तरफ जाम की स्थिति एक समान रह रही है। जिस रास्ते से गुजरों वहां पर लंबे जाम से सामना करना पड़ रहा था। सबसे बुरी स्थिति तो थाना रोड से शांतिवट वृक्ष तक की थी। जाम में लोगों के पसीने मुख्य मार्ग में भी छूट रहे थे। वाहन रेंगते हुए नजर आए, वहीं पैदल चलने वाले एक से दूसरे रास्ते से निकलने में परेशान दिखे। जाम हटाने में ट्रैफिक पुलिस के पसीने छूटते रहे। जाम में फंसे लोगों ने बताया कि दीपावली व छठ जैसे बड़े पर्व में प्रशासन की लापरवाही से लोगों को जाम में फंसना पड़ रहा है। ट्रैफिक व्यवस्था पूरी तरह से लचर है, बुधवार से छठ शुरू हो रहा है, लेकिन अब-तक रुट चार्ट जारी नहीं किया गया है। हसनपुरा से खरीदारी करने शहर आए कुलवंत सहाय ने बताया कि बाजार में खरीदारी के दौरान पार्किंग की जगह नहीं होने से कई लोगों ने सड़क के दोनों ही तरफ गाड़ी पार्क कर दी है। इसकी वजह से भी जाम लग रहा है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

एटीएम में लंबी लाइन देख बैठ जा रहे थे सिर पकड़

छठ महापर्व के दौरान खरीदारी करने निकले लोग एटीएम में लंबी लाइन देख कर परेशान हो जा रहे हैं। छठ महापर्व शुरू होने से एक दिन पूर्व शहर के दाहा नदी पुल के समीप एक निजी बैंक व राजेन्द्र पथ में राष्ट्रीयकृत बैंक व निजी बैंक के एटीएम में देखने को मिला। शहर के अलावा ग्रामीण इलाके से बड़ी संख्या में लोग पूजन सामग्री खरीदने शहर आ रहे हैं। एटीएम से रुपये निकाल खरीदारी करने आए लोग जब एटीएम पहुंच रहे हैं तो वहां पहले से ही लंबी लाइन देखने को मिल रही है। राष्ट्रीयकृत बैंक हो या निजी बैंक के एटीएम सब जगह एक ही हाल है। कुछ एटीएम में रुपये नहीं मिल रहे जबकि कुछ में अपनी पारी आने तक रुपये समाप्त हो जा रहे हैं। इससे लाइन में खड़े लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है।