लूट कांड में दो संदिग्‍धों को हिरासत में लेकर पुलिस कर रही है पूछताछ

0
police

पचरुखी थानाध्यक्ष द्वारा दी जा रही थी हिदायत

परवेज़ अख्तर/सीवान:- जिले के मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के बांसोपाली पुल समीप सोमवार की देर शाम एक वेस्टर्न यूनियन संचालक को गोली मारकर पांच लाख की लूट करने के मामले में पुलिस ने सोमवार की रात सराय ओपी के वैशाखी हाता में छापेमारी कर दो कुख्यात को हिरासत में लेकर नगर थाना में रखकर गहन पूछताछ की। विश्वसनीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दोनों कुख्यातों से एसपी नवीन चंद्र झा ने देर रात गहनता से पूछताछ की। इससे पहले कांड को गंभीरता से लेते हुए घटना के कुछ ही देर बाद एएसपी कांतेश मिश्र ने एक टीम का गठन कर छापेमारी का निर्देश दिया। छापेमारी टीम ने देर रात वैशाखी हाता पहुंच कर दो संदिग्धों को हिरासत में ले लिया और उन्हें टाउन थाना लाया और वहां सभी पुलिस पदाधिकारियों ने गहनता से पूछताछ की। बता दें कि मिली जानकारी के अनुसार हिरासत में लिए गए दोनों कुख्यात कुछ दिन पूर्व ही जेल से छूट कर बाहर आए हैं। हालांकि इस मामले में किसी भी पुलिस पदाधिकारी ने कुछ भी बताने से इन्कार कर दिया और जांच को पूरी तरह से गोपनीय रखा है । बता दें कि हिरासत में लिए गए दोनों कुख्यात पचरुखी थाना में कांड संख्या 19/17 में नामजद हैं। उक्त प्राथमिकी तत्कालीन थानाध्यक्ष गौरीशंकर बैठा के बयान पर दर्ज की गई थी। इसमें उल्लेख है कि 7 फरवरी 2017 को पचरुखी चीनी मिल के समीप आपराधिक योजना बनाने के दौरान गिरफ्तार हुए थे। इनके साथ दो अन्य कुख्यात को भी गिरफ्तार किया गया था। इस कांड में इनके पास से पुलिस ने पिस्टल व देशी कट्टा बरामद किया था। हिरासत में लिए गए दोनों कुख्यात वैशाखी हाता निवासी अली अनवर का पुत्र साजिद अली उर्फ चुन्नू तथा अली मोखतार का पुत्र हजरत अली है। बता दें कि सोमवार की शाम वेस्टर्न यूनियन संचालक मिरापुर निवासी अब्दुल मनान अंसारी रुपयों की निकासी कर अपने घर जा रहे थे तभी बांसोपाली पुल समीप दो बाइक पर सवार तीन हथियार से लैस अपराधियों ने उन्हें गोली मारकर उनसे पांच लाख रुपये की लूट कर ली और फरार हो गए। इसके बाद घायल का इलाज सदर अस्पताल में कराया गया। बता दें कि पचरुखी थानाध्यक्ष अमित कुमार द्वारा पूर्व से ही इन दोनों की गतिविधियों पर नजर रखा जा रहा था और इन्हें क्षेत्र से बाहर जाने की हिदायत बार बार दी जा रही थी। लेकिन ये अपने क्षेत्र में बने हुए थे। इधर सोमवार को लूट की घटना के बाद पुलिस को जैसे ही अपने सूत्रों से इनके बारे में जानकारी मिली इन्हें रातों रात हिरासत में ले लिया गया।

गठित टीम कर रही छापेमारी

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हिरासत में लिए गए दोनों कुख्यातों ने पुलिस को कई राज बताएं हैं। इसके आधार पर गठित पुलिस टीम छापेमारी कर रही है। सोमवार को पूरी रात गठित टीम ने जिले के कई थानों में छापेमारी की। इसके बाद मंगलवार की सुबह मुफ्फसिल थानाध्यक्ष ने अपने दल बल के साथ कई जगहों पर छापेमारी की।

गोपालगंज और छपरा पुलिस से साधा संपर्क

लूटकांड की घटना के उद्भेदन के लिए जिला पुलिस ने गोपालगंज के मीरगंज और छपरा के सीमावर्ती थानों से संपर्क साधा है। गठित टीम ने जिला के बॉर्डर एरिया में जाकर वहां अपने सूत्रों से पूछताछ की। इसके बाद दारौंदा थाना और एकमा थाना से भी संपर्क किया। पुलिस हिरासत में लिए गए दोनों कुख्यातों के मोबाइल कॉल का भी डिटेल्स निकलवा रही है। वहीं एसपी कार्यालय द्वारा सभी थानाध्यक्षों को अलर्ट कर उनके यहां से संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ करने का निर्देश जारी किया गया है।

टावर डंप के आधार पर हो रही जांच

लूट की घटना को लेकर पुलिस कई तरह से अनुसंधान जारी कर चुकी है। इसी कड़ी में पुलिस घटना स्थल के आसपास के गांव में लगे मोबाइल टावर से डंप के आधार पर भी जांच कर रही है। जांच में पुलिस यह देखेगी कि जिस समय घटना हुई उस समय वहां कितने संदिग्धों का नंबर और लोकेशनवहां था। इसके बाद संदिग्धों की पड़ताल कर उनकी धरपकड़ के लिए छापेमारी की जाएगी।​