यात्री की हत्या करने वाला पुलिस गिरफ्त से दूर, तीन गए जेल ​

0

परवेज़ अख्तर/सिवान:- 23 अप्रैल को एसपी आवास के पीछे तथा थाना से महज दो सौ कदम की दूरी पर जिस यात्री की हत्या की गई थी उसकी पहचान जहां पुलिस ने कर ली वहीं घटना को अंजाम देने वाले तीन अपराधियों को भी पुलिस ने रविवार को पूछताछ के बाद जेल भेज दिया। पुलिस के अनुसार जेल जाने वाले तीनों अपराधियों ने अपनी संलिप्तता कांड में स्वीकार की है, लेकिन इस हत्याकांड में शामिल मुख्य आरोपित व मृतक राजकुमार की हत्या करने वाला मुख्य अपराधी गोलू और उसके गैंग के तीन अन्य साथी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है। रक्सौल के नगर थाना क्षेत्र के नवकाटोला निवासी राजकुमार यादव के सिर में गोलू ने गोली मारी थी। इस दौरान उसके साथ अन्य अपराधी भी थे। गोली लगने के बाद गोले के साथ आए अपराधी फरार हो गए जबकि दूसरे गिरोह में शामिल तीन अन्य अपराधी दूसरी तरफ फरार हो गए। जेल जाने वाले अपराधियों के पास से पुलिस ने मृतक राजकुमार का एक बैग जिसमें कपड़े और कागजात हैं उसे भी बरामद कर लिया है। साथ ही लूटपाट के दौरान इस्तेमाल किए गए एक पिस्टल और एक देशी कट्टा को भी जब्त किया गया है। ज्ञात हो कि पकड़े गए तीनों अपराधियों को पुलिस ने घटना के कुछ ही देर बाद हिरासत में ले लिया था और उनसे लगातार पूछताछ कर रही थी। इस दौरान एक दर्जन से अधिक संदिग्धों को हिरासत में लिया भी गया और कइयों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया।
जेल जाने वाले तीनों अपराधियों में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के खुर्माबाद निवासी कृष्णा चौहान उर्फ बड़े जो दरौली थाना क्षेत्र के मझौलिया गांव का निवासी हैं और वर्तमान में खुर्माबाद में अपने फूफा राजेश्वर चौहान के यहां रहता था। वहीं इसके साथ रईस साईं एवं पवन चौहान शामिल है। एसपी नवीनचंद्र झा ने बताया कि पूछताछ के दौरान तीनों युवक ने अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। उन्होंने बताया कि अपराधियों ने पहले युवक से लूटपाट की घटना को अंजाम देना चाहा, लेकिन युवक ने उसका विरोध किया तो अपराधियों ने उसे गोली मार लूट की घटना को अंजाम देते हुए फरार हो गए। एसपी ने तीनों अपराधियों के आपराधिक इतिहास के बारे में बताया कि कृष्णा चौहान उर्फ बड़े इसके पहले तीन बार जेल जा चुका है। एक नगर थाना तथा एक उत्तर प्रदेश में चोरी मामले में जेल भेजा गया है एवं मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बस स्टैंड के समीप अतिक्रमण हटाने के दौरान एसडीओ पर हमला के मामले में भी जेल जा चुका है। रईस साईं गोपालगंज में चोरी मामले में जेल जा चुका है तथा पवन चौहान कृष्णा के साथ चोरी मामले में यूपी में जेल जा चुका है। एसपी ने बताया कि पकड़े गए अपराधी कृष्णा चौहान उर्फ बड़े के इशारे पर इनके पास से एक देशी कट्टा एवं दो गोली बरामद हुई। हालांकि यह हथियार घटना में प्रयुक्त नहीं किया गया था। कृष्णा ने बताया कि इस हथियार को गोली मारने वाला युवक दिया था।

युवक की हत्या से पहले बुजुर्ग से हुई थी लूट, बरामद बैग से पुलिस ने बुजुर्ग तक पहुंच किया मामले का उद्भेदन

युवक की हत्या के पहले एसपी आवास के पास एवं बस स्टैंड के पश्चिमी गेट के पास अपराधियों ने पहले लूट की घटना को अंजाम दिया था। इसका खुलासा तब हुआ जब पुलिस घटना के बाद आसपास के इलाके में युवक की शिनाख्त के लिए सामान की खोजबीन कर रही थी। इसी क्रम में बस स्टैंड में बने एक भवन के पीछे सुनसान गली में पुलिस को एक बैग बरामद हुआ। पुलिस ने बैग को अपने कब्जे में लेकर जब खंगाला तो उसमें एलआइसी से जुड़े कागजात एवं अन्य कागजात मिले जो गोपालगंज के बतराही नौका टोला निवासी सुभाष प्रसाद के थे, इसके बाद पुलिस ने उक्त पते पर पहुंच सुभाष प्रसाद से मुलाकात की तो सुभाष प्रसाद ने घटना की रात की आपबीती सुनाई। सुभाष प्रसाद ने पुलिस को बताया कि वह लखनऊ से सिवान स्टेशन उतर कर टेंपो से बस स्टैंड आए थे, जहां उनके साथ अपराधियों ने लूट की घटना को अंजाम दिया था। इसके बाद वे सहमकर पास में भूसा उतार रहे कुछ लोगों के पास गए और अपनी व्यथा सुनाई। उनलोगों ने पास में थाना होने की सूचना दी लेकिन सहमे बुजुर्ग थाना नहीं गए और बस पकड़ अपने घर चले गए, इसके बाद पुलिस ने सुभाष प्रसाद को थाना लाया एवं हिरासत में लिए गए संदिग्धों से पहचान कराई जिसे देख बुजुर्ग ने तुरंत पहचान लिया। बुजुर्ग ने पुलिस से यह भी बताया कि लूट के बाद अपराधी बस स्टैंड के पूर्वी गेट पर चले हैं जहां वे और भी यात्रियों से लूट की घटना को अंजाम देना चाह रहे थे। इसी क्रम में अपराधियों ने युवक से लूट की घटना का अंजाम के बाद गोली मारकर हत्या कर दी।

मृतक के परिजन दो दिन पूर्व किए थे बैंक से संपर्क

राज कुमार द्वारा एक सप्ताह से लगातार घर पर कोई संपर्क नहीं करने से परेशान घर के परिजन दो दिन पूर्व आशीर्वाद नन बैंक से संपर्क किया था, लेकिन बैंक के कर्मचारियों ने परिजनों को बताया था कि वह छुट्टी के बाद बैंक नहीं आया है, जिसके बाद परिजनों के बीच चिंता बन गई। इसके बाद परिजन रक्सौल थाना से संपर्क किए। सिवान पुलिस ने हत्या के बाद युवक के शिनाख्त के लिए आस-पास के जिलों में युवक की तस्वीर को भेज दिया था। परिजनों द्वारा थाना से संपर्क करने के बाद परिजनों को हत्या की जानकारी मिली। जानकारी मिलते ही परिजनों के बीच कोहराम मच गया। परिजनों ने रविवार को मुफस्सिल थाना में आवेदन देकर बैंक में कार्यरत कर्मचारी पर आरोप लगाया है कि कुछ दिन पहले बैंक के कर्मचारी ने धमकी दी थी। इस मामले में मुफस्सिल थानाध्यक्ष ने बताया कि आवेदन प्राप्त हुआ है। जांच हर बिंदु पर की जा रही है। इसके पहले रविवार को परिजन शव को लेने पहुंचे थे, लेकिन शव को सड़ जाने के कारण अस्पताल प्रशासन ने पुलिस को शुक्रवार को शव को शव गृह से हटाने को कहा था जिसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर दफना दिया था। परिजन पुलिस की बात मानकर वापस लौट गए।​