धनतेरस पर धनवंतरि की पूजा के साथ जमकर हुई खरीदारी

0
dhanteras

परवेज अख्तर/सिवान : जिला मुख्यालय समेत ग्रामीण इलाकों में सोमवार को कार्तिक कृष्ण पक्ष त्रयोदशी पर धूमधाम से धनतेरस मनाया गया। इस दौरान कई व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में धनवंतरी की पूजा हुई। बाजार में बर्तन, जेवर, इलेक्ट्रॉनिक्स, लक्ष्मी गणेश की प्रतिमा व मिठाई आदि के दुकानों पर लोगों ने जमकर खरीदारी की। इस संबंध में पं. उमाशंकर पांडेय ने बताया कि इस दिन समस्त जीवों के स्वास्थ्य रक्षक भगवान धनवंतरी की पूजा की जाती है। कार्तिक कृष्ण पक्ष को समुद्र मंथन से उत्पन्न हुए समस्त जीवों के स्वास्थ्य रक्षक भगवान धनवंतरी उत्पन्न हुए इस उपलक्ष्य के आयुर्वेद प्रवर्त्तक भगवान धनवंतरी का पूजन करने का विधान है। इनकी पूजा से मनुष्य निरोग एवं स्वस्थ रहता है। इस दौरान मंदिरों में भी पूजा अर्चना को भीड़ देखी गई। शहर के महादेवा रोड, राजेंद्र पथ, स्टेशन रोड, शांति वट वृक्ष, श्रीनगर, बड़हरिया रोड समेत शहर के कई जगहों पर बर्तन, इलेक्ट्रॉनिक्स के सामानों की दुकानें सजी रही। जहां लोगों ने जमकर खरीदारी की। शहर के आरएस जेम्स ज्वेलर्स, कनक मंदिर ज्वेलर्स, न्यू स्वर्ण कूंज ज्वेलर्स आदि में सोने चांदी के गहने व सिक्कों की जमकर खरीदारी हुई। वहीं इलेक्ट्रॉनिक्स शो रूम जिम्मी सेल्स, अलब्रमका सेल्स, उषा इलेक्ट्रॉनिक्स शो रूम आदि में भी इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों की खरीदारी के लिए ग्राहकों की भीड़ रही। ऑटोमोबाइल्स शोरूम में छपरा रोड देव होंडा, प्रतीक हिरो, मिशन बजाज, न्यू बिहार टीवीएस आदि में बाइक की खूब बिक्री हुई। dhanterash ki kharidari

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

प्रखंडों में भी सजे रहे बाजार, लोगों की खरीदारी

जिले के बसतंपुर, लकड़ी नबीगंज, हसनपुरा, भगवानपुर, महाराजगंज, दारौंदा, आंदर, रघुनाथपुर, दरौली, मैरवा, नौतन, जीरादेई, पचरुखी समेत अन्य प्रखंडों के बाजारों में देर शाम तक खरीदारी को ले भीड़ उमड़ी रही। इन बाजारों में ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने जेवर, वर्तन सहित विभिन्न सामग्री करते दिखे।

धनतेरस पर झाड़ू की हुई जमकर बिक्री

लोगों की मान्यता है कि धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदने से घर में लक्ष्मी का वास होता है। इसलिए लोगों ने जमकर झाड़ू की खरीदारी की। शहर में कई जगह झाड़ू की दुकानें लगी थी। जहां ग्राहक खरीदारी करते देखे गए।