जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा में पुरुषों की सहभागिता जरूरी: सिविल सर्जन

0
  • विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा की हुई शुरुआत
  • सदर अस्पताल में कैंप लगाकर परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों का हुआ वितरण

छपरा: जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा में महिलाओं के साथ साथ पुरुषों की भी सहभागिता महत्वपूर्ण है। इस पखवारा में पुरुषों को भी आगे आना चाहिए और परिवार नियोजन के साधनों को अपनाने की आवश्यकता है। उक्त बातें सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े की शुरूआत करते हुए कही। उन्होंने कहा कि परिवार नियोजन की जिम्मेदारी सिर्फ महिलाओं की ही नहीं बल्कि पुरूषों की भी है। इसमें पुरूषों को भी भागीदारी बढ़ानी चाहिए। उन्होंने बताया कि 11 जुलाई से 31 जुलाई तक जिले में जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा का आयोजन किया गया है। आज से इस अभियान की शुरुआत की गई है। इस अवसर पर सदर अस्पताल के ओपीडी परिसर में कैंप लगाकर योग्य लाभार्थियों के बीच परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों का निशुल्क वितरण किया गया। साथ ही इच्छुक लाभार्थियों को परिवार नियोजन के अस्थाई तथा अस्थाई साधनों के बारे में काउंसलिंग की गई। स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा अधिक से अधिक लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए परिवार नियोजन कार्यक्रम की जानकारी अस्पताल में आने वाले मरीजों व उनके परिजनों को दी गई। इस मौके पर जिला स्वास्थ समिति के डीपीएम अरविंद कुमार, डीसीएम ब्रजेन्द्र कुमार सिंह, डीएस डीआर राम इकबाल प्रसाद जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार शर्मा, डॉ एमपी सिंह, एनसीडीओ डॉ एचसी प्रसाद, स्वास्थ्य प्रबंधक राजेश्वर प्रसाद, डीएमएंडई भानू शर्मा, डीपीसी रमेश चंद्र कुमार, गौरव कुमार, लेखापाल बंटी कुमार रजक, केयर इंडिया के फैमिली प्लैनिंग कोऑर्डिनेटर प्रेमा कुमारी, फैमिली प्लानिंग काउंसलर बबीता कुमारी समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

WhatsApp Image 2020 07 11 at 5.19.55 PM

आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी

सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया कि इस वर्ष के जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े की थीम “आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी” रखी गयी है। इस दौरान गर्भनिरोधक के बास्केट ऑफ चॉइस पर इच्छुक दंपतियों को परामर्श दिया जाएगा। इसके लिए सभी स्वास्थ्य संस्थानों में परामर्श पंजीयन केंद्र स्थापित करते हुए परिवार कल्याण परामर्शी, दक्ष स्टाफ नर्स, एएनएम द्वारा परामर्श दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा ओपीडी, एएनसी सेवा केंद्र, प्रसव कक्ष एवं टीकाकरण केंद्र पर भी कॉन्ट्रासेप्टिव डिस्प्ले ट्रे एवं प्रचार प्रसार सामग्रियों के माध्यम से परामर्श करते हुए इच्छुक लाभार्थी को परिवार नियोजन सेवा प्राप्त करने में सहयोग की जायेगी है। परामर्श पंजीयन केंद्र पूरे पखवाड़े के दौरान एवं आगे भी अस्थाई रूप से कार्य करेगा। इस दौरान मांग एवं खपत के अनुसार सभी सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर आवश्यक मात्रा में गर्भनिरोधक की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी।

परिवार नियोजन की समस्त सेवाएं प्रदान की जाएंगी

जिला स्वास्थ समिति के डीसीएम ब्रजेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि विभिन्न प्रचार-प्रसार साधनों के माध्यम से उचित उम्र पर विवाह, बच्चों के जन्म में अंतर रखने, प्रसव पश्चात परिवार नियोजन की सेवाएं, परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी, गर्भ समापन पश्चात परिवार नियोजन की सेवाओं के संदर्भ में व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार है। सेवा प्रदायगी जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा 11 से 31 जुलाई तक मनाया जाएगा। पखवाड़े में इच्छुक लाभार्थियों को परिवार नियोजन की समस्त सेवाएं प्रदान की जाएंगी। इसमें कई प्रकार की गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। कोविड-19 के प्रोटोकॉल को फॉलो करते हुये मास्क एवं सैनिटाइजर का प्रयोग कर परिवार नियोजन के लिए ग्राम स्तर पर जन समुदाय को जागरूक किया जाएगा। दंपत्तियों की इच्छानुसार उन्हेंं अस्थायी गर्भनिरोधकों के इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जाएगा। कोविड-19 के दृष्टिगत सुरक्षित ढंग से अस्थायी गर्भनिरोधक साधन उपलब्ध कराया जा रहा है। इस कार्य में लगी संस्थाओं व अन्य सहयोगी व्यक्तियों से आगे आकर पखवाड़े के दौरान कार्य करने की अपील की गई है।

आयोजित होने वाली गतिविधियां

  • समुदाय अथवा चिकित्सा इकाई पर इच्छुक लाभार्थियों की परिवार नियोजन के विभिन्न गर्भनिरोधक साधनों (बास्केट ऑफ चॉइस) पर परामर्श दिया जाएगा।
  • सभी गर्भनिरोधक साधनों की मुफ्त उपलब्धता स्वास्थ्य इकाइयों पर मौजूद रहेगी।
  • कोरोना संक्रमण को देखते स्वास्थ्य इकाइयों पर लगे कंडोम बॉक्स प्रतिदिन विसंक्रमित किया जाएगा।
  • बार-बार आने तथा संपर्क से बचने के लिए कंडोम और गर्भ निरोधक गोली कम से कम दो महीने की आपूर्ति लाभार्थियों को प्रदान की जाएगी।
  • पखवाड़े के दौरान लाभार्थियों को तिमाही गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा, साप्ताहिक गर्भनिरोधक गोली छाया व प्रसव पश्चात आईयूसीडी के प्रति विशेष रूप से प्रेरित किया जाएगा।
  • महिला व पुरुष नसबंदी सेवा के इच्छुक लाभार्थियों के प्री-रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया की जाएगी।
  • नियत सेवा दिवस का आयोजन कर संक्रमण रहित चिकित्सा इकाइयों में नसबंदी होगी।