रघुनाथपुर की प्रमुख पर लगा दो-दो अविश्वास प्रस्ताव

0

परवेज अख्तर/सिवान:- जिले के रघुनाथपुर प्रखंड प्रमुख देवंती देवी के खिलाफ उनके कार्यकाल के 2 साल बाद शनिवार को दो-दो अविश्वास प्रस्ताव लाया गया। पहला अविश्वास प्रस्ताव दिघवलिया पंचायत के बीडीसी विजय प्रकाश सिंह ने लगाया। विजय प्रकाश ने 8 बीडीसी का हस्ताक्षरयुक्त पत्र बीडीओ को सौंपा। जबकि प्रमुख के खिलाफ दूसरा अविश्वास प्रस्ताव करसर पंचायत के बीडीसी विनोद कुमार सिंह ने लगाया। इनके द्वारा शपथ पत्र के साथ 13 बीडीसी का हस्ताक्षरयुक्त पत्र सौंपा गया। विनोद सिंह के सौंपे गए पत्र में प्रमुख पर अनियमितता बरतने, बीडीसी के बिना सहमति के कार्य करना, कार्यालय से अक्सर अनुपस्थित रहने, प्रमुख की कुर्सी पर उनके पुत्र के बैठने व कार्य करने व सदस्यों के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया गया है। विनोद सिंह ने धर्मेंद्र साह, लीलावती देवी, निर्मला देवी, बुच्ची देवी, उषा देवी, मीना देवी, कृष्ण कुमार, मनन कुमार, संजय कुमार पाल, रम्भा देवी, राजेन्द्र साह व गीता देवी समेत 15 बीडीसी का समर्थन होने का दावा किया। जबकि विजय प्रकाश सिंह ने भी बहुमत का दावा किया है। विजय प्रकाश ने सुनीता देवी, रीना देवी, निर्मला देवी, कृष्ण कुमार, रम्भा देवी, नागेंद्र मिश्रा व संजय कुमार पाल को अपना समर्थक बताया है। इधर अपने ऊपर लगाए गए आरोप व अविश्वास प्रस्ताव पर प्रमुख ने कहा कि लोकतंत्र में ऐसा होता है। मेरे पास 15 दिन का समय है। मेरे पास बहुमत है। मैं अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने को तैयार हूं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

फर्जी हस्ताक्षर किये जाने की शिकायत

रघुनाथपुर पंचायत की बीडीसी रम्भा देवी ने बीडीसी विजय प्रकाश सिंह के अविश्वास प्रस्ताव पत्र में अपना हस्ताक्षर फर्जी होने की शिकायत बीडीओ से की है। बीडीसी कृष्ण कुमार व संजय कुमार पाल ने भी विजय प्रकाश सिंह के अविश्वास प्रस्ताव वाले पत्र में अपना हस्ताक्षर फर्जी होने की बात फोन पर कही है। इसकी पुष्टि बीडीओ संतोष कुमार मिश्र ने की। इधर विनोद कुमार सिंह के अविश्वास प्रस्ताव वाले पत्र को प्रमुख को रिसीव नहीं कराया जा सका है। मैसेंजर जब पत्र लेकर प्रमुख को रिसीव कराने उनके घर पहुंचा तो बताया गया कि प्रमुख पटना चली गयी हैं। हालांकि विजय प्रकाश सिंह का अविश्वास प्रस्ताव पत्र प्रमुख को मिल गया है।