सिवान के दरौली में रेलकर्मी की धारदार हथियार से गोदकर हत्या

0

किसी के बुलावे पर सोमवार की रात घर से गया था बाहर

✍️परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
जिले के दरौली थाना क्षेत्र के किशुनपाली गांव में एक स्वैच्छिक सेवानिवृत्त रेलकर्मी की धारदार हथियार से गोदकर हत्या कर दी गयी है. मृतक के शव को पुलिस ने गेंहू की खते से बरामद किया है. मृतक सोमवार की रात किसी के बुलावे पर घर से बाहर गया था.पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए सीवान भेजते हुए हत्याकांड की जांच शुरू कर दी है.घटना के संबंध में बताया जाता है कि किशुनपाली गांव निवासी स्व.नागेश्वर राम का पैंतालीस वर्षीय पुत्र ललन राम सोमवार की रात्रि किसी के बुलावे पर घर से बाहर गया हुआ था. जहां देर रात तक वापस नहीं लौटा, तो परिजनों ने खोजबीन शुरू कर दिया.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

इधर मंगलवार की सुबह गांव के लोग गेहूं के फसल की पटवन करने जा रहे थे. तभी देखा कि खेत में कोई व्यक्ति पड़ा हुआ है.पास जाकर देखा तो खून से लथपथ एक व्यक्ति का शव पड़ा था. किसी धारदार हथियार से सिर और नाक पर वार कर बुरी तरह से वार किया गया है. लोगों ने इसकी सूचना परिजनों को दी. परिजन खेत में जाकर देखा तो वह ललन राम ही था. घटना की जानकारी पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सीवान भेज दिया है. मृतक रेलकर्मी रह चुका है. उसने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लिया था. थाना प्रभारी रितेश कुमार मंडल ने बताया कि प्रथम दृष्टया हत्या धारदार हथियार से किया गया है.हांलाकि परिजनों ने समाचार प्रेषण तक थाने में आवेदन नहीं दिया था.

किसी के बुलाने पर घर से गया था ललन

परिजनों ने बताया कि ललन राम सोमवार की रात्रि आठ बजे किसी के फोन से बुलाने पर घर से बाहर गया था. बाहर जाने के दौरान किसी परिजन को सूचित नहीं किया था. देर रात घर नहीं लौटने पर बेटा राहुल और चंदन तथा पत्नी लारवपति देवी ने खोजबीन शुरू किया.लेकिन कहीं अता पता नहीं चल सका.

घटना के बाद गांव में तरह तरह की चर्चाएं

जिस परिस्थिति में अधेड़ की हत्या की गयी है, उसको लेकर गांव में तरह तरह की चर्चाएं हो रही है. अपराधियों ने ललन के सिर व नाक पर धारदार हथियार से हमला कर उसकी हत्या की थी. ऐसे में लोगों के जेहन में कई सवाल खड़े हो रहें हैं. अब सब कुछ पुलिसिया जाचं पर टिकी हैं.