बिहार समेत देश की सबसे बड़ी पार्टी को इस चुनाव में तीन नंबर पर भेजकर काफी खुश दिखे रईस खान

0
  • एमएलसी चुनाव में राजद के विनोद जायसवाल की हुई जीत, भाजपा के मनोज सिंह तीसरे स्थान पर
  • एमएलसी चुनाव में दूसरा स्थान प्राप्त कर निर्दलीय प्रत्याशी रइस खान ने सबको चौकाया
  • राजद के विनोद जायसवाल ने 2032, रइस खान 1366 तथा भाजपा के मनोज सिंह को मिला 1149 मत

परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ: बिहार विधान परिषद की स्थानीय निकाय प्राधिकार कोटे के लिए हुए चुनाव में राजद के विनोद जायसवाल ने 666 वोट से बड़ी जीत हासिल की है. जबकि सत्ताधारी दल एनडीए के उम्मीदवार भाजपा के मनोज कुमार सिंह को तीसरे स्थान से संतोष करना पड़ा है. जबकि निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर राजनीति में कदम रखने वाले रईस खान ने दूसरा स्थान हासिल कर अपनी बढ़ती लोकप्रियता का एहसास कराया है. चुनाव मैदान में आठ प्रत्याशी थे. राजद के विनोद जायसवाल ने जहां 2032 मत प्राप्त किया, वहीं रईस खान ने 1366 मत प्राप्त किया. ऐसे में विनोद जायसवाल 666 मतों से विजयी रहे. मतगणना जिला निर्वाची पदाधिकारी सह जिलाधिकारी अमित कुमार पांडे की देखरेख में हुई. जबकि चुनाव प्रेक्षक के तौर पर समाज कल्याण विभाग के सचिव प्रेमसिंह मीणा की तैनाती सरकार ने की थी. इसके अलावे जिला के तमाम वरीय पदाधिकारी को तैनात किया गया था.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.16.03 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.24.37 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.13.39 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.18.57 PM

WhatsApp Image 2022 04 07 at 8.42.39 PM 1

पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन की मौत के बाद उनकी पत्नी हेना साहब, आरजेडी विधायक अवध बिहारी चौधरी, हरिशंकर यादव, बच्चा पांडे और माले विधायक सत्यदेव राम, अमरजीत कुशवाहा सहित तमाम आरजेड़ी माले नेताओं कार्यकर्ताओ के साथ अपने उम्मीदवार विनोद जायसवाल की जीत सुनिश्चित करने के लिए लगातार दिन रात जुटी रही और इसका फायदा भी मिला. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के नतीजे आने के साथ ही विनोद जायसवाल ने जनसंपर्क शुरु कर दिया था. वहीं पूर्व में विधान पार्षद रहे बीजेपी के मनोज कुमार सिंह का टिकट बहुत देर से घोषित होने का खामियाज़ा उन्हे उठाना पड़ा है.

WhatsApp Image 2022 04 07 at 8.42.38 PM

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे सहित कई मंत्री और विधायक लगभग 15 दिन लगातार जिले में रहकर कैंप करते रहे. लेकिन एनडीए में टूट का असर भारी पड़ गया. पूर्व विधायक श्याम बहादुर सिंह और जिला परिषद अध्यक्ष संगीता यादव सहित कई दिग्गज़ निर्दलीय रईस खान के साथ शुरु से खुलकर साथ रहे. इसका फायदा रईस खान को मिला है. भले ही रईस खान चुनाव नहीं जीत सके,परंतु वे बिहार की और देश की सबसे बड़ी पार्टी को इस चुनाव में तीन नंबर पर भेजकर काफी खुश दिखे.