गिट्टी व्यवसायी बने गरीबों के लिए मसीहा, किया कच्चे राशन का वितरण

0
ration

रघुनाथपुर, मैरवा, दरौंदा प्रखंडों के दर्जनों गांव में पांच सौ से अधिक परिवार के बीच किया राशन का वितरण

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

सदर अनुमंडल पदाधिकारी से अनुमति लेकर किया वितरण

परवेज अख्तर/सिवान : कोरोना से लड़ाई में जारी लॉकडाउन के बीच दिहाड़ी मजदूर और गरीब लोगों के बीच खाना और राशन का संकट जारी है. इसी बीच सोमवार को जिले के कुछ गिट्टी व्यवसायी गरीबों के लिए मसीहा बनकर उनके बीच पहुंचे और कच्चे राशन का वितरण किया। गिट्टी व्यवसायी रामशंकर सिंह, राधेश्याम, अभिषेक कुमार, उमेश तिवारी, मिथिलेश पांडेय, दीपक रॉय, रविन्द्र गुप्ता और राकेश
कुमार ने इस विषम परिस्थिति में मजदूरों की मदद कर नेक काम किया है।
गिट्टी व्यवसायी ने जिले के रघुनाथपुर, दरौंदा और मैरवा प्रखंड के दर्जनों गांव में जा कर कुल 500 परिवारों को आटा, चावल, दाल आदि का वितरण किया। इस दौरान व्यवसायी ने कहा कि आज हमने दिहाड़ी मजदूर और गरीब लोगों के बीच राशन सामग्री का वितरण किया गया जो दिहाड़ी करके अपना घर चलाते हैं. मगर लॉकडाउन में फंसने की वजह से उनके पास न तो खाना है और न पैसे।
जमीनी हालत ये है कि दिहाड़ी मजदूर लॉक डाउन में बेबश हो गए है और अपने
परिवार का भरण पोषण करने के लिए संकट में आ गए है। उन्‍होंने कहा कि
कोरोना से लड़ाई में लॉकडाउन जरूरी कदम था, लेकिन इस संकट की स्थिति में
सबों के लिए खाने-पीने का प्रबंध करने की जिम्‍मेवारी सरकार थी. कोई भूखा
न रहे यह हमारी कोशिश है. इसलिए गरीबों के बीच कच्चे राशन का वितरण किया
जा रहा है ताकि वे इस विकट स्थिति में अपना पेट पाल सकें। गिट्टी
व्यवसायी रामशंकर ने बताया कि प्रत्येक परिवार के बीच पांच किलो आटा,
पांच किलो चावल एवं एक किलो दाल का वितरण किया गया है। ताकि इस परिस्थिति
में वे कुछ दिन अपने परिवार का पालन पोषण कर सकें। अगर आगे ऐसा ही हालात
रहा तो गिट्टी व्यवसायी सदैव गरीबों के लिए खड़े हैं। इन्होंने बताया कि
राशन वितरण के लिए सिवान सदर अनुमंडल पदाधिकारी से अनुमति प्राप्त कर
इसका वितरण किया गया। तथा इस बीच सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया गया।
मौके पर विकास कुमार, मुन्ना कुमार, बबलू सिंह,लक्ष्मण एवं सुनील मौजूद
रहे।