जामापुर के तालाब में ऋषभ की हत्या कर शव को फेंका, परिजनों का हुआ बुरा हाल

0
hatya

इकलौता पुत्र के सदमे को सहन नही कर पा रहे है परिजन

परवेज़ अख्तर/सिवान :- जिले के जीरादेई थाना क्षेत्र के जामापुर काली मंदिर के पास स्थित तालाब से मंगलवार को एक बालक का शव बरामद हुआ। मृतक की पहचान जामापुर निवासी राजू साह के इकलौते पुत्र ऋषभ कुमार के रूप में हुई है। इसकी सूचना मिलने के बाद पूरे गांव में शोक छा गया। वहीं स्वजनों के चीत्कार से पूरा माहौल गमगीन हो गया। स्वजनों का कहना था कि काली मंदिर तालाब में ऋषभ का शव मिला है। परिजनों का साफ कहना है कि उसके पुत्र की हत्या करके शव को तालाब में फेंका गया है। स्वजनों ने बताया कि ऋषभ सोमवार को दिन के दो बजे से ही घर से गायब था। स्वजन उसके ढूंढने के लिए शाम तक बहुत कोशिश किए, लेकिन उसका कहीं भी सुराग नहीं मिल पाया। स्वजनों ने इसकी सूचना रिश्तेदारों, ग्रामीणों और आसपास के लोगों को भी दे दी। स्वजनों ने बताया कि ऋषभ काफी होनहार व तेज लड़का था। उन्होंने उसको बेहतर शिक्षा और उसकी तरक्की के लिए काफी प्रयासरत थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 7.27.12 PM
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

तरह-तरह के कयास लगा रहे ग्रामीण

वहीं ग्रामीणों में चर्चा इस बात की है कि किशोर की हत्या कहीं भूमि विवाद में तो नहीं कर दी गई है। हालांकि शव मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की छानबीन में जुट गई और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। वहीं पुलिस का कहना है कि पीड़ित परिवार की तरफ से अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, जबकि पुलिस इस मामले में कुछ भी कहने से बच रही है। इस संबंध में पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हत्या के कारणों का पता चल जाएगा।

ऋषभ की मौत के बाद घर का बुझा चिराग

जामापुर निवासी राजू साह के पुत्र ऋषभ कुमार की मौत के बाद घर का चिराग बुझ गया। ऋषभ अपने माता-पिता की इकलौती संतान था। उसकी मौत के बाद पिता राजू साह, मां समेत अन्य स्वजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। उसकी मां रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी। आसपास की महिलाएं उसे किसी तरह संभाल रहीं। राजू साह दुकानदारी कर अपने परिवार का खर्च चलाता है। पुत्र की मौत के बाद बदहवास हो गया है। आसपास के ग्रामीण स्वजनों को ढांढ़स बंधा रहे थे। स्वजनों के चीत्कार से पूरे गांव में शोक व्याप्त है।