सिसवन के चांदपुर में युवक की हत्या के विरोध में सड़क जाम

0
hatyakand
  • सैकड़ों की संख्या में सड़क पर पहुंचे ग्रामीणों ने लगभग 6 बजे ही सड़क जाम कर दिया
  • लोगों का कहना था कि शाम होते ही हत्या होती है
  • स्थानीय प्रशासन के खिलाफ लोगों में आक्रोश है
  • 04 घंटा जाम रहा सिसवन-सीवान मुख्य मार्ग
  • 02 गोली का खोखा पुलिस ने बरामद किया है

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के सिसवन थाना क्षेत्र के चांदपुर गांव में रविवार की देर शाम कृष्णा पांडेय की हुई हत्या के विरोध में सोमवार की सुबह लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। गुस्साएं लोग सड़क जाम कर अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। घटना से आक्रोशित लोगों की प्रमुख मांग घटनास्थल पर बड़े पदाधिकारी को बुलाने, अपराधियों की गिरफ्तारी करने की थी। सैकड़ों की संख्या में सड़क पर पहुंचे ग्रामीणों ने लगभग 6 बजे ही सड़क जाम कर दिया। स्थानीय लोगों का गुस्सा स्थानीय पुलिस प्रशासन पर था। ग्रामीण महिलाएं भी आक्रोशित थीं। उनका कहना था कि शव के जलाए जाने के बाद प्रशासन कुछ नहीं करेगा। उन्हें स्थानीय प्रशासन पर कोई भरोसा नहीं था। लोगों का कहना था कि शाम होते ही हत्या होती है और पुलिस कुछ भी नहीं कर पाती। हालांकि थानाध्यक्ष कुमार वैभव के समझाने के बाद ग्रामीण हट गये, मगर पुनः शव के साथ सड़क जाम कर बड़े पदाधिकारी के बुलाने व अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। जाम लगभग चार घंटे तक रहा। थानाध्यक्ष व बीडीओ सूरज कुमार सिंह के 3 दिनों के अंदर अपराधियों की गिरफ्तारी करने व मोबाइल सर्विलांस के जरिए हत्या के कारणों को सुलझाने के आश्वासन के बाद जाम खत्म हुआ।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
metra hospital

मोबाइल डिटेल्स से खुल सकता है हत्या का राज

परिजनों की मानें तो कृष्णा की हत्या के पहले किसी व्यक्ति का फोन आया था। वह फोन से बात करते ही घर से गया था। गांव के दक्षिण स्थित प्राथमिक विद्यालय के पास बने पुलिया पर बैठा था। तभी अपराधियों ने उसके ऊपर हमला कर उसे गोली मार दी। पुल के पास ही वह गिर पड़ा। घटनास्थल से जांच के दौरान पुलिस को दो गोली का खोखा बरामद हुआ है। जिसमें एक पिस्तौल की और दूसरी गोली कट्टे की है। पुलिस को परिजनों ने कृष्णा का मोबाइल भी सौंपा है। उसका कॉल डिटेल्स निकाल अपराधियों तक पहुंचने की बात कह रहे थे। छोटे भाई मुकेश कुमार ने अज्ञात के खिलाफ एफआईआर के लिए आवेदन दिया है।

शव आने के बाद परिवार में मचा कोहराम

रविवार की रात ही पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सीवान भेज दिया था। सोमवार की सुबह सीवान से शव पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया। मृतक कृष्णा तीन भाइयों में दूसरे नंबर पर था। बड़ा भाई संजीत विदेश में रहता है। एक साल पहले उसकी शादी हुई है। छोटा भाई मुकेश पढ़ाई के साथ आर्मी की तैयारी में है। वह आर्मी की दौड़ व अन्य प्रतियोगी परीक्षाएं पास कर फरवरी में फाइनल परीक्षा देने वाला है। कृष्णा मिलनसार व मृदुभाषी था। परिवार की किसी से भी कोई दुश्मनी नहीं है। इसके स्वभाव को देखते हुए लोगों का कहना था कि हत्या किस कारण से हुई है समझ से परे है। दो बहनों में एक बहन की शादी हो चुकी है। जबकि सिंधु कुमारी अभी कुंवारी है। मां मीना देवी का रो-रोकर बुरा हाल है।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here