कोरोना वायरस से लड़ने में महिलाओं की भूमिका अहम, सभी का रख रहीं है ख्याल

0
corona virus
  • परिवारजनों को घर से नहीं निकलने के लिए कर रही प्रेरित
  • कोरोना से बचाव में हाथों की भूमिका अहम
  • सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सेल्फ आइसोलेशन जरूरी

छपरा :- नोवेल कोरोनावायरस से लड़ने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन लागू कर दी गयी है। कोरोनावायरस के खिलाफ इस लड़ाई में जिले की महिलाएं भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रही हैं. महिलाएं स्वयं घरों में रह रही है और अपने बच्चों और परिवारजनों को घर में रहने के लिए प्रेरित कर रही है। इसमें गांव की महिलाएं भी अहम रोल निभा रही है।महिलाएं अपने पति या फिर परिवार के सदस्यों को घर से नहीं निकलने के लिए प्रेरित कर रहीं है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

सबके सामने खड़ी है बड़ी चुनौती

‘‘आज हम सबके सामने एक अलग किस्म की चुनौती आ खड़ी हुई है। यह एक कठिन चुनौती है और इसीलिए हालात मुश्किल भरे हैं। इन मुश्किल हालात में हम सभी की एकजुटता, संयम और अनुशासन के साथ सहयोग की भी परख होनी है। इसलिए मैं अपने परिवार का पूरा ख्याल रख रही हूँ. बच्चों को घर से निकलने नहीं दे रही हूँ’’.

कुसुम देवी, रिविलगंज

kushum devi

इस बीमारी को रोकना हम सबकी जिम्मेदारी है

इस बीमारी को रोकना हम सबकी जिम्मेदारी है इसलिए सभी को अतिरिक्त सावधानी का परिचय देना होगा। केंद्र सरकार, राज्य सरकारों और उनके स्थानीय प्रशासन की ओर से दिए गए आदेशों-निर्देशों का पालन 10 में से 9 लोग ही करते हैं तो वह एक व्यक्ति न केवल अपनी सेहत के लिए खतरा पैदा करेगा, बल्कि पूरे समाज और देश के लिए भी संकट खड़ा करेगा।

गीता देवी, गृहणी , ब्रह्मपुर छपरा

gita devi

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण में हाथों की बड़ी भूमिका है

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण में हाथों की एक बड़ी भूमिका है। इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति जब किसी से हाथ मिलाता है अथवा किसी सतह को छूता है और फिर कोई अन्य उस सतह को स्पर्श कर लेता है तो उसके इस बीमारी के चपेट में आने का अंदेशा बहुत बढ़ जाता है।

डॉ संजू प्रसाद, छपरा

dr sanju parsad

सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही जरूरी है सेल्फ आइसोलेशन

सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही जरूरी है सेल्फ आइसोलेशन यानी खुद को अलग-थलग करना। इसके दोहरे फायदे हैं। यह आपको दूसरों की बीमारी से बचाएगा और दूसरों को आपकी बीमारी से। जिन्हें यह संदेह है कि वे कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, वे यदि अपने आप को एकांत यानी आइसोलेशन में रखें और मेल-जोल बंद कर दें तो परिवार और दोस्तों को बीमारी से बचा सकते हैं।

डॉ. नीला सिंह, स्त्री रोग विशेषज्ञ, सदर अस्पताल छपरा
dr nila singh

पौष्टिक खाना खाएं और अपने कमरे में रहते हुए ही हल्का व्यायाम करें

कोरोनावायरस के संक्रमण की आशंका वाले लोगों को चाहिए कि वे कम से कम दो सप्ताह तक खुद को अलग-थलग रखें। इस दौरान एक अलग हवादार कमरे में रहें और अपना रुमाल, तौलिया आदि अलग रखें। इसके साथ ही अलग बाथरूम का प्रयोग करें और उसे साझा न करें। इस दौरान मेहमानों को घर पर न बुलाएं। इस दो सप्ताह आप परिवार के साथ रह सकते हैं, लेकिन उनसे मेलजोल कम रखें, दूरी बनाए रखें। इस दौरान पौष्टिक खाना खाएं और अपने कमरे में रहते हुए ही हल्का व्यायाम करें।

डॉ माधवेश्वर झा, सिविल सर्जन, सारण

dr mahesvar jha