सारण में कोविड-19 का रिकवरी रेट हुआ 88 प्रतिशत, संक्रमण के मामले भी हुए कम

0
covid -19
  • कोरोना से बचाव के लिए मास्क का उपयोग व शारीरिक दूरी जरूरी
  • कोविड-19 के अनुरूप व्यवहारों को अपनाने पर हीं मिलेगी कोरोना से जीत
  • आपकी छोटी-सी लापरवही पड़ सकती है भारी

छपरा: जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अथक प्रयास के बदौलत जिले में कोरोना संक्रमण के मामले में लगातार कमी आ रही है। कोरोना संक्रमण से स्वस्थ होने वाले व्यक्तियों की संख्या में भी वृद्धि हुई है। कोरोना संक्रमण का खतरा टला नहीं है। हालांकि यह बात जरूर है कि संक्रमण प्रभावितों की संख्या पूर्व की तुलना में कम हैं। लेकिन संक्रमण के डर को नजरअंदाज कर लापरवाही बरता जाना जोखिम भरा है। मास्क लगाने, हाथों को नियमित धोने व सैनेटाइज करने तथा भीड़ भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचने और बहुत आवश्यक होने पर ही बाहर जाने के दौरान शारीरिक दूरी का पालन करने जैसे नियमों का पालन बहुत जरूरी है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
vigyapann
ads

रिकवरी रेट 88 प्रतिशत

कोविड 19 संक्रमण की रोकथाम में स्वास्थ्य विभाग और आमजन की सामूहिक भागीदारी का परिणाम सामने आया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जागरूकता कार्यक्रमों के बाद लोगों में नियमों का पालन को लेकर सजगता आयी है। इसका परिणाम है कि सारण जिला में संक्रमण का रिकवरी रेट 88 प्रतिशत हो गया है। कोरोना पॉजिटिव 100 लोगों में से 88 प्रतिशत लोग ठीक हुए हैं। यह रिकवरी रेट राज्य के औसत रिकवरी रेट बराबर है। राज्य का औसत रिकवरी रेट 88 प्रतिशत से थोड़ा अधिक है।

कोरोना से बचाव के लिए सतर्कता बेहद जरूरी

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने कहा कि संक्रमण से रिकवरी रेट के आंकड़ें उत्साहजनक जरूर हैं, लेकिन सर्तकता भी बहुत जरूरी है। इसलिए कोरोना वायरस से बचाव के लिए अपनाए जानेवाले सुरक्षात्मक उपाय को अभी अपनी आदतों में शामिल रखें। जैसे-घर से बाहर निकलने पर मास्क का इस्तेमाल, घर वापस आने पर हाथ को साबुन से 40 सेकेंड धोना, 6 फीट की शारीरिक दूरी का पालन आदि नियमों व एहतियातों को अपना कर ही कोरोना वायरस पर विजय पायी जा सकती है।

संक्रमण के मामले में भी कमी

सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने कहा कि जिला का रिकवरी रेट बढ़ने के साथ संक्रमण के मामलों में भी कमी आयी है। अभी जिले का रिकवरी रेट 88 प्रतिशत हो गया है। अर्थात जो भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव हो रहे हैं उनमें 88 प्रतिशत पूरी तरह से ठीक हुए हैं। उन्होने कहा कि कोरोना से बचने का बेहतर तरीका है कि घर से कम निकलें। अगर घर से बाहर निकलें तो मास्क जरूर लगायें। भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें। इस व्यवहार को अपनाने से कोरोना से बचाव में आसानी होगी। सावधानी से हीं कोरोना से बचाव हो सकता है और यही इसका सबसे कारगर हथियार भी है।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here