गर्मी के कारण बढ़ी तरबूज की बिक्री

0
tarbuj

परवेज़ अख्तर/सिवान : भीषण गर्मी में सूख रहे गले को तरोताजा करने के लिए तथा प्यास बुझाने के लिए पानी के अलावा लोगो की पसंद तरबूज बन गया है ।जेष्ठ मस की तपती धूप एवं कंठ सूखा देने वाली लू से निजात पाने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में सस्ता एवं सरल उपाय तरबूज साबित हो रहा है । क्षेत्र में प्रखंड मुख्यालय बाजार सहित मलमलिया, माघर, चोरौली, मोरा, बाबा बाजार, विमल चौक सहित अन्य छोटे बड़े चौक चौराहों पर दियारा क्षेत्र से बड़े पैमाने पर तरबूज पिकअप भान,ट्रक एवं ट्रैक्टर से आपूर्ति हो रहे हैं, जो शाम होते होते बिक जा रहा है। तरबूज का महत्व तब दिखने लगता है । जब मुख्य मार्ग एन एच 101 एवं एस एच 73 पर सवारी गाडियां यात्रियों सहित यात्री चढ़ने अथवा उतारने के लिए रुकते है तो सुख रहे गले को तरोताजा करने लिए यात्री तरबूज के दुकान पर तरबूज खराब अपनी सुख रहे गले को तरोताजा कर सकून महसूस करते देखे जा रहे है । प्रखंड मुख्यालय बाजार के तरबूज के थोक एवं खुदरा विक्रेता गफ्फार मियां ने बताया बढ़ती गर्मी में तरबूज की मांग बढ़ी है । मांग जे अनुरूप आपूर्ति कम जे कारण मंहगी दर पर तरबूज बेचने की बात कही । उन्होंने कहा तरबूज सारण, गोपालगंज जिले के दियारा क्षेत्र से लाई जाती है । उन्होंने बताया खड़ा तरबूज 15 रुपए किलो ग्राम एवं काट कर 20 रुपए किलोग्राम के दर से बिक रहा है।