बालू खनन कंपनी ने बिहार सरकार को लगाया करोड़ों का चूना, 11 करोड़ 72 लाख राजस्व क्षति का FIR दर्ज

0
fir

औरंगाबाद: सोन नदी में बालू खनन का ठेका लेने वाली आदित्य मल्टीकाम कंपनी पर करोड़ों रुपये की बालू चोरी (अवैध प्रेषण) की प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। खनन पदाधिकारी आजाद आलम के द्वारा कंपनी पर रविवार को 22 लाख 47 हजार 700 घनफीट बालू चोरी के मामले में बारुण थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। कंपनी पर 11 करोड़ 72 लाख 50 हजार रुपये की सरकारी राजस्व की क्षति करने के मामले में यह प्राथमिकी दर्ज हुई है। हालांकि प्राथमिकी में कंपनी के किसी व्यक्ति को नामजद नहीं बनाया गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ad-mukhiya

खनन पदाधिकारी ने बताया कि बारुण थाना क्षेत्र के खेमदा बालू घाट की 16 सितंबर को जांच की गई तो 18000 घनफीट बालू अंकित है पर पीएमयू के द्वारा उपलब्ध कराए गए प्रतिवेदन के अनुसार उक्त बालू घाट पर 22,65,700 घनफीट बालू का भंडारण पाया गया है। जांच में पाया गया कि अनुज्ञप्तिधारी कंपनी के द्वारा बिना ई-चालान के 22,47,700 घनफीट बालू का अवैध प्रेषण किया गया है। कंपनी के द्वारा 11,72,50,032 रुपये सरकारी राजस्व की क्षति की गई है। खनन पदाधिकारी ने बताया कि क्षति की यह राशि कंपनी से वसूलनी है।

खनन पदाधिकारी ने बताया कि पुलिस के अनुसंधान में बालू की चोरी करने के मामले में फंसी अनुज्ञप्तिधारी कंपनी के मालिक, संचालक एवं कर्मियों के नाम का पता चलेगा। बता दें कि इसके पहले भी इस कंपनी के मालिक एवं कर्मियों पर करीब 30 करोड़ से अधिक राजस्व की क्षति के मामले में बारुण, नवीनगर, रिसियप थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। हालांकि पुलिस के अनुसंधान में सुस्ती के कारण अबतक इस मामले में कंपनी के मालिक एवं प्रबंधक पर किसी भी तरह की पुलिसिया कार्रवाई नहीं की गई है। अबतक पुलिस के द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किए जाने की चर्चा खूब हो रही है। अनुसंधान में कंपनी के मालिक एवं प्रबंधक का नाम सामने आया है कि नहीं इसकी भी जानकारी नहीं मिली है।