सासामुसा मन्नत घाट पर छठ करने पहुंचते हैं दूर-दराज के छठव्रती

0

परवेज अख्तर/गोपालगंज:- लोक आस्था के महापर्व छठ को लेकर जिलेभर का वातावरण भक्तिमय हो गया है। छठ घाटों की साफ-सफाई,रंग-रोगन व सजावट का कार्य भी शुरू कर दिया गया है। उधर, जिले के विभिन्न क्षेत्रों में कई ऐसे छठ घाट भी हैं जहां छठ व्रतियों की मन्नतें पूरी होती हैं। जिसमें कुचायकोट प्रखंड के सासामूसा में दाहा नदी के किनारे, नारायणी नदी के डुमरिया पुल, शहर के हरखोरी साह के पोखरा, नोनिया टोली, वीएम फिल्ड व कृष्णा टॉकिज छठ घाट आदि शामिल हैं। ऐसी मान्यता है कि श्रद्धा के साथ मांगी गईं मन्नतों को छठी मईया अवश्य पूरा करती हैं। इसी आस्था को लेकर व्रती इन घाटों पर भक्ति व समर्पण के साथ पूजा-अर्चना करते हैं। स्थानीय प्रखंड से होकर गुजरनेवाले एनएच 28 के सेट ही दाहा नदी के किनारे मन्नत घाट स्थित है। यहां पर छठ पूजा करने के लिए सासामूसा बाजार, सासामूसा गांव,आसपास के कई गांवों सहित दूर दराज से व्रती व उनके परिजन आते हैं। मान्यता है कि इस घाट पर श्रद्धा के साथ पूजा-अर्चना करने पर छठ व्रतियों की मन्नतें पूरी होती हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि यहां आनेवाले कई व्रतियों के परिजनों को नौकरी मिल गयी। किसी का बिजनेस काफी आगे बढ़ गया। इसी तरह कई को संतान सुख की प्राप्ति हुई। इसलिए हर साल यहां पर कई लोग मन्नत मांगने के लिए छठ पूजा करने आते हैं। मन्नत पूरा होने पर यहां पूरे परिवार के साथ आकर पूजा व अर्चना करते हैं। इसके अलावा जिनकी मन्नत पूरी हो जाती है वे यहां पर सिरसोपता का निर्माण भी कराते हैं। यही कारण है कि मन्नत पूरी होने पर यहां सिरसोपता की संख्या भी हर साल बढ़ती ही जा रही है। कुछ ही वर्षों में सिरी सोप्ता की संख्या दुगुनी हो चुकी है। साफ-सफाई का काम हुआ शुरू । यहां घाट की सफाई, सिरसोपता निर्माण व रंग रंगाई का कार्य कराने में व्रती और उनके परिजन जुटे हुए हैं। दूसरी तरफ श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ने को लेकर प्रशासन द्वारा भी यहां पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाते हैं। दंडाधिकारियों और पुलिस पदाधिकारियों के साथ यहां काफी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की जाएगी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal