पप्पू देव के पोस्टमार्टम रिपोर्ट से सनसनीखेज खुलासे….चोट से ब्रेन फट जाने के कारण हार्ट फेल हुआ, शरीर पर 40 गंभीर जख्म…

0

पटना: सहरसा में पप्पू देव की पुलिस कस्टडी में हुई मौत सामान्य मौत नहीं थी. पप्पू देव का पोस्टमार्टम करने वाली मेडिकल टीम की रिपोर्ट में सनसनीखेज खुलासा सामने आया. पप्पू देव के सिर पर गंभीर चोट के कारण ब्रेन के अंदर का नस फट गया जिसके कारण हार्ट फेल कर गया. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट बताती है कि पूरे शरीर पर जख्म के 40 गंभीर निशान थे. सारे के सारे निशान किसी कठोर औऱ भोथरा (हार्ड एंड ब्लंट) वस्तु से मारे जाने के कारण बने थे।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

पप्पू देव का पोस्टमार्टम सहरसा के तीन डॉक्टरों की टीम ने किया था. उस टीम ने अपनी रिपोर्ट दे दी है. पोस्टमांर्टम रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि पप्पू देव की मौत का कारण सामान्य हार्ट अटैक नहीं है. पप्पू देव के ब्रेन की नस फट जाने के कारण सिर में पूरा खून जमा हो गया था, इसके कारण हार्ट औऱ सांस लेने का पूरा सिस्टम फेल हो गया और पप्पू देव की मौत हो गयी। मेडिकल टर्म में डॉक्टरों की टीम ने लिखा है-ब्रेन में हेमाटोमा के कारण कार्डियो रेसपिटरी सिस्टम फेल हो गया था जिसके कारण मौत हुई।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक पप्पू देव के ब्रेन की नस फटकर जहां खून जमा हुआ था उसके ठीक बाहर यानि बायें ललाट के ठीक उपर चोट का गंभीर निशान था. चोट का ये निशान मेडिकल टर्म में ब्रूज कहा जाता है. डॉक्टरों ने लिखा है कि बायें ललाट के उपर 2 इंच लंबा और 2 इंच चौड़ा ब्रूज (चोट का गहरा निशान) था. वे वही जगह है जहां सिर के अंदर खून निकल कर जमा हो गया था, जो मौत का कारण बना. डॉक्टरों ने कहा है कि यह किसी कठोर और भोथरे चीज की चोट से बना निशान है।

पोस्टमार्टम करने वाली मेडिकल टीम की रिपोर्ट में पप्पू देव के शरीर पर चोट के 40 निशान का जिक्र किया गया है।मेडिकल रिपोर्ट बताती है कि पप्पू देव के शरीर पर जख्म के लगभग चालीस निशान थे और डाक्टरों के मुताबिक सारे निशान भोथरे औऱ कठोर वस्तु से मारे जाने के कारण बने. मेडिकल रिपोर्ट में लाठी या बंदूक-पिस्तौल का जिक्र तो नहीं किया गया है लेकिन जिस हार्ड एंड ब्लंट सब्सटांस से जख्म होने का जिक्र किया जा रहा है वह लाठी या रायफल-बंदूक का बट हो सकता है।

मेडिकल रिपोर्ट ने ये साबित कर दिया है कि पप्पू देव की मौत की जो कहानी सहरसा पुलिस बता रही थी वहां गलत थी. पप्पू देव की मौत सामान्य मौत नहीं थी बल्कि बर्बर पिटाई के कारण हुई मौत थी. हम आपको बता दें कि सहरसा में पिछले 18 दिसंबर को पुलिस हिरासत में पप्पू देव की मौत हो गयी थी।

एसपी के प्रेस बयान में कहा गया था कि छापेमारी के बाद पप्पू देव ने दीवाल फांदकर भागने की कोशिश की, लेकिन उसे दबोच लिया गया था. पुलिस हिरासत में छाती में दर्द की शिकायत करने पर देर रात करीब दो बजे सदर अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया. गंभीर स्थिति देख डॉक्टरों ने उसे रेफर कर दिया था. उसे सहरसा से डीएमसीएच ले जाने की तैयारी के क्रम में मौत हो गई थी।