दो बाइकों की सीधी टक्कर में दुकानदार की मौत, दो घायल

0
maut

बड़हरिया थाना क्षेत्र के लकड़ी बाजार के माली मोड़ पर हुयी घटना

बड़हरिया थाना क्षेत्र के नूराहाता गांव निवासी है मृतक, परिजनों में मचा कोहराम

परवेज अख्तर/सिवान:- जिले के बड़हरिया थाना क्षेत्र के लकड़ी बाजार के माली मोड़ पर बुधवार की देर शाम को दो बाइकों की सीधी टक्कर में तीन लोग गंभीर रुप से घायल हो गए. बाइकों की इस सीधी भिड़ंत में थाना क्षेत्र के मो. मुन्ना सैफी के पुत्र व दुकानदार हासिल सैफी की मौत हो गयी. विदित हो कि थाना क्षेत्र के नूराहाता के मुन्ना सैफी का पुत्र हासिल सैफी (32) अपनी बाइक से अपने साले व मननपुरा गांव के इमामुद्दीन सैफी के पुत्र साजिद अली के साथ मननपुरा जा रहा था कि बड़हरिया की ओर से आ रहे बाइक से सीधी टक्कर हो गयी. इस टक्कर में हासिम सैफी, साजिद अली, दीपक कुमार व रामनारायण सिंह घायल हो गए. इस सड़क दुर्घटना में घायल करीब दस मिनट तक सड़क पर बेहोश पड़े रहे, लेकिन उन्हें उठाने के लिए कोई नहीं आया. इसके बाद पूर्व मुखिया संजय साह, डॉ नसीम सैफी, इरफान सैफी, संतोष चौहान आदि ने घटनास्थल पर पहुंचकर सभी घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल, सीवान पहुंचाया. लेकिन डॉक्टरों ने घायलों की बिगड़ती हालत देखकर उन्हें गोरखपुर भेज दिया. लेकिन सड़क दुर्घटना में गंभीर रुप से घायल हासिल सैफी के गोरखपुर हॉस्पिटल पहुंचने पर उन्हें मृत घोषित कर दिया. वहीं गंभीर रुप से घायल हासिल सैफी के साले साजिद अली का इलाज गोरखपुर में चल रहा है. जबकि घायल दीपक कुमार के परिजनों ने उसे बेहतर इलाज के लिए अन्यत्र लेकर चले गए. परिजनों का कहना है कि हासिम सैफी बुधवार की देर शाम को थाना क्षेत्र के गड़हा मोड़ स्थित अपनी पान की दुकान बंद कर बाइक से अपने ससुराल मननपुरा जा रहा था.वह जैसे ही माली मोड़, लकड़ी बाजार पहुंचा, बड़हरिया की ओर से आ रहे गोपालगंज जिले के मीरगंज थाना क्षेत्र के माधवा लाल के मठिया के दीपक कुमार की बाइक से सीधी टक्कर हो गयी. पुलिस ने हासिम के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल, सीवान भेज दिया. इधर हासिम की मौत की खबर मिलते ही परिजनों की चीख-चीत्कार से पूरे गांव में कोहराम मच गया. हासिम की पत्नी शकीला खातून व मां अमना खातून का रो-रोकर बुरा हाल है. शकीला बार-बार बेहोश हो जा रही हैं. बता दें कि हासिम को एक चार वर्षीया पुत्री गुलअफ्शा व दो वर्षीय पुत्र रेहान है. हासिम सैफी पान दुकान चला कर अपने परिजनों का परिवरिश करता था. मौत की खबर सुनकर पूर्व मुखिया संजय प्रसाद, मो. इसराफिल, संतोष चौहान, लालबाबू गद्दी, इरफान सैफी आदि ने मृतक के परिजनों को ढ़ाढ़स बंधाया.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
vigyapann
ads