सिवान: पर्सनल आईडी से अनाधिकृत रूप से टिकट बनाने के आरोप में आरपीएफ ने टिकट कोरोबारी को पकड़ा

0

परवेज अख्तर/सिवान: सीवान जंक्शन के आरपीएफ पोस्ट के निरीक्षक अजय कुमार यादव के नेतृत्व में आरपीएफ ने रविवार को अपराह्न में शहर के स्टेशन रोड स्थित कामरान ट्रैवल्स एंड साइबर कैफे दुकान में छापेमारी कर अनाधिकृत रुप से पर्सनल यूजर आईडी से आरक्षित रेल टिकट बनाने एवं बेचने के आरोप में दुकान के संचालक को गिरफ्तार किया. पकड़े गये दुकानदार का नाम संजय कुमार है, जो हुसैनगंज थाने के हथौड़ा का गांव निवासी सोहनलाल राम का पुत्र है. आरपीएफ निरीक्षक अजय कुमार यादव ने बताया कि मंडल मुख्यालय से प्राप्त ई-टिकटिंग अवैध कारोबार करने वाले आईडी-के आधार पर की गयी छापेमारी में अवैध रूप से पर्सनल यूजर आईडी से बनाए गए लाइव दो तत्काल ई-टिकट एवं यात्रा किया हुआ 11 आरक्षित सामान्य एवं तत्काल ई-टिकट बरामद किया गया.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

बताया कि रेलवे ई-टिकट के अवैध कारोबार करने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया है. बरामद किए गए तत्काल ई-टिकट की कीमत 24153 रुपए है. पूछताछ के दौरान अभियुक्त द्वारा ग्राहक से ऑर्डर लेकर अब्दुल रहमान उर्फ मुन्ना जिसका मोबाइल नंबर 8340752611 को बनाने हेतु ऑर्डर करता था एवं उसके द्वारा बना करके इसे व्हाट्सएप के माध्यम से या मेल के माध्यम से भेजा जाता था.

बताया कि तदोपरांत उपरोक्त अभियुक्त द्वारा ग्राहक को 300 से 500 रुपए अधिक लेकर बेचा जाता था. साथ ही साथ अभियुक्त द्वारा यह भी बताया गया कि उपरोक्त जप्तशुदा टिकटों को बनाने में उपयोग किए गए पर्सनल यूजर आईडी के संबंध में उसे कोई जानकारी नहीं है. उसे अब्दुल रहमान उर्फ मुन्ना ही बता सकता है, जो सीवान का रहने वाला है. लेकिन उसका पता मालूम नहीं है. उपरोक्त अब्दुल रहमान उर्फ मुन्ना का पता लागने का प्रयास किया गया, परंतु वर्तमान समय तक पता नहीं चल सका है. उपरोक्त ई-टिकटों को बनाने में कोई प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किए जाने तथा एजेंट आईडी संबंधी जानकारी नहीं है. मौके से टिकट के अलावे एक मॉनिटर, दो मोबाइल, दो प्रिंटर तथा नगद 19670 रुपए जप्त किया गया है. छापेमारी के दौरान सीवान आरपीएफ पोस्ट के उप निरीक्षक सुरेश चंद्र पांडे, हेड कॉन्स्टेबल कुमार प्रियरंजन, कांस्टेबल नागेंद्र कुमार यादव तथा कांस्टेबल धनंजय कुमार यादव ने सहयोग किया.