सिवान: चुनाव में भाग्य आजमाने वाले उम्मीदवारों की परेशानियां बढ़ी

0
  • उम्मीदवार को चुनाव में स्वयं का एक घोषणा को लेकर सौ का जूडिशियल स्टांप और 25 का वेलफेअर की आवश्यकता होती है
  • सौ का जूडिशियल स्टांप व 25 के वेलफेअर की आवश्यकता
  • स्टांप काउंटर पर लगभग पांच सौ से अधिक लोग कतार में थे

परवेज अख्तर/सिवान: जिले में पंचायत चुनाव में भाग्य अजमाने वाले उम्मीदवारों की परेशानियां बढ़ गयी हैं। चुनाव मैदान में ताल ठोकने को लेकर नामांकन करने की प्रक्रिया से जुड़े कागजातों की तैयारी शुरू कर दी गयी है। गुरुवार को भी जिले में कागजात की प्रक्रिया पूरी करने के लिए लोगों को जद्दोजहद करते देखा गया। कचहरी परिसर स्थित स्टांप काउंटर पर लगभग पांच सौ से अधिक लोग कतार में अपनी-अपनी बारी के आने का इंतजार करते रहे। बताया जाता है कि उम्मीदवार को चुनाव में स्वयं का एक घोषणा को लेकर सौ का जूडिशियल स्टांप और 25 का वेलफेअर की आवश्यकता होती है। जबकि कोर्ट से जुड़े कार्यों में भी इस तरह के स्टांप का प्रयोग किया जाता है। लिहाजा काउंटरों पर भीड़ लगना लाजमी है। बताया जाता है कि कई बार स्टांप की कमी भी लोगों को परेशान करती है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
metra hospital

अहले सुबह से ही काउंटर पहुंच रहे हैं लोग

मिली जानकारी के अनुसार स्टांप बिक्री को लेकर महज दो ही काउंटर का संचालन किया जाता है। इधर स्टांप मिलने में होने वाली परेशानी के बारे में सभी को पता है। लिहाजा अहले सुबह से ही लोगों का कचहरी परिसर स्थित काउंटर पर पहुंचना शुरू हो जा रहा है। बताया जाता है कि काउंटर पर कर्मी साढ़े दस बजे आते हैं और शाम चार बजे तक स्टांप बिक्री का कार्य करते हैं। इस बीच कई बार ऐसा भी देखा जाता है कि लंबी लाइन लगने के कारण कई लोगों को स्टांप नहीं मिल पाता है और वे मायूस होकर अपने घर वापस लौट जाते हैं।

काउंटर बढ़ाने की उठी मांग

स्टांप की चाहत को लेकर कचहरी परिसर आए लोगों ने स्टांप लेने की जटिल प्रक्रिया को देखते हुए काउंटर बढ़ाने की मांग की। उनका कहना था कि चुनाव में उपयोग होने वाले 100 के स्टांप व 25 के वेलफेअर को लेकर काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लिहाजा परेशानियों से निजात दिलाने के लिए दो से अधिक काउंटर जरूरी है। कई बार 25 का वेलफेअर बिचौलियों से लेने के लिए लोग विवश दिख रहे हैं। 25 का वेलफेअर उन्हें 100 रुपये तक में खरीदना पड़ रहा है।