सिवान: 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के 43 फीसदी लाभार्थियों को दिया जा चुका है वैक्सीन का डोज

0
  • 31 जनवरी तक सभी छात्रों का वैक्सीनेशन कर लेने का है लक्ष्य
  • सौ फीसदी वैक्सीनेशन वाले स्कूलों को किया जाएगा सम्मानित

परवेज अख्तर/सिवान: वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच कोविड वैक्सीनेशन कार्यक्रम लगातार जारी है। महामारी से सुरक्षा को लेकर जिले में 15 से 18 वर्ष तक के किशोर-किशोरियों का टीकाकरण किया जा रहा है। इस उम्रवर्ग के मैट्रिक और इंटरमीडिएट के परीक्षार्थियों की संख्या भी शामिल है। विभाग की ओर से दिए गए निर्देश के अनुसार परीक्षा के पूर्व 31 जनवरी तक वैक्सीनेशन पूरा कर लेने का लक्ष्य रखा गया है। इस अभियान को गति देते हुए विभाग ने इस उम्र के करीब 43 फीसदी लाभार्थियों का वैक्सीनेशन पूरा कर लिया है। कोविड टीकारण के सफल क्रियान्वयन को लेकर जिला एवं प्रखंड स्तर पर टास्क फोर्स का गठन किया गया है। टास्क फोर्स में डीएम के अलावा सिविल सर्जन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक और सहयोगी संस्थाओं के जनप्रतिनिधि भी शामिल होंगे। पत्र के माध्यम से यह निर्देश दिया गया है कि वैसे विद्यालय जहां के शत-प्रतिशत छात्र-छात्राओं का टीकाकरण हो चुका है उस विद्यालय को 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर सम्मानित किया जायेगा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

15 से 18 वर्ष आयुवर्ग के कुल 03 लाख 17 हजार 601 हैं लाभार्थी

स्वास्थ्य विभाग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार जिले में 15 से 18 वर्ष आयुवर्ग के कुल 03 लाख 17 हजार 601 लाभार्थी हैं। इनमें से करीब 01 लाख 34 हजार 394 लाभार्थियों को वैक्सीन का डोज दिया जा चुका है। बताया गया कि 21 जनवरी तक जिले में सबसे अधिक नौतन प्रखंड के लाभार्थियों का वैक्सीनेशन किया गया है। यहां कुल 94.6 फीसदी लाभार्थियों को वैक्सीन का डोज दिया जा चुका है। जबकि दूसरे नंबर पर बड़हरिया प्रखंड का नाम है, जहां 61.9 फीसदी लाभार्थियों का वैक्सीनेशन पूरा कर लिया गया है। इसी तरह गोरेयाकोठी में 53.2, मैरवा में 51.3, बसंतपुर में 45.7, हसनपुरा में 44.4, जीरादेई में 43, पचरूखी में 42.8, सीवान सदर में 39.7, अर्बन में 39.7, आंदर में 39, हुसैनगंज में 38.4, लकड़ीनबीगंज 38.1, महाराजगंज में 37.8, दरौली में 32.5, भगवानपुर में 32, दरौंदा में 31.9, गुठनी में 29.9, रघुनाथपुर में 28.5 व सिसवन प्रखंड में 26.5 फीसदी लाभार्थियों को वैक्सीन का डोज दिया जा चुका है।