सिवान: पत्नी से कुछ बताना चाहता था परमेंद्र तभी बेटे ने मोबाइल हाथों में ले लिया

0
Siwan Online banner
  • सुबह सात बजे तक परमेंद्र के मोबाइल फोन पर घंटी बज रही थी
  • सात नवंबर की शाम पत्नी से कुछ बताने के लिए किया था कॉल

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के तीन युवक विशाल, परमेंद्र यादव व अंशु के लापता होने के सात दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस को कोई सुराग नहीं मिल सका है। पुलिस इस गुथ्थी को सुलझाने को लेकर जिले के कई क्षेत्रों में भाग दौड़ कर रही है। इधर जब लापता परमेंद्र के परिजनों से बात की गयी तो सभी की आंखें भर आयीं। बताया कि परमेंद्र का करीब तीन वर्षीय बेटा प्रियांश 07 नवंबर की शाम 06: 07 बजे के आसपास अपने पापा से वीडियो कॉलिंग पर बात करना चाहता था। जो पूरा नहीं हो सका और घरवालों को अगली सुबह परमेंद्र सहित कुल तीन लोगों के लापता होने की बुरी खबर मिली। जीरादेई के भलुआ गांव निवासी परिजनों की मानें तो परमेंद्र शाम को फोन कर पत्नी से कुछ कहना चाहता था।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

जबतक वह पत्नी कुछ कहता उसका छोटा बेटा फोन हाथ में लेकर वीडियो कॉलिंग कर पापा को देखने की जिद कर बैठा। हालांकि कुछ ही सेकेंड बाद फोन कट गया और बात अधूरी रह गयी। इधर घर के कामकाज से निपटने के बाद पत्नी ने परमेंद्र को रात करीब आठ बजे फोन किया लेकिन दूसरी तरफ का मोबाइल फोन नहीं उठ सका। अगले सुबह भी पत्नी ने परमेंद्र के मोबाइल फोन पर कई बार बात करने की कोशिश की लेकिन बात नहीं हो सकी और आखिरकार मोबाइल बंद हो गया। परमेंद्र लापता हो गया है, इसकी खबर परिजन को आठ नवंबर को अखबार पढ़ने व विशाल के परिजनों से मिलने के बाद हुई। फिर क्या था, आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवार पर दु:खों का पहाड़ सा टूट गया।

विशाल के गाड़ी का ड्राईवर था परमेंद्र

परमेंद्र यादव की उपस्थिति में उसके घरवालों ने दीपावली पर्व को खूब धूमधाम से मनाया था। अगले दिन घर से जाते समय परमेंद्र ने अपनी पत्नी से बताया कि वह छठ पर्व पर घर वापसी करेगा। परमेंद्र के पिता ने बताया कि वह पहले दूसरे प्रदेशों में रहकर काम कर परिवार का भरण पोषण करता था। इधर पांच-छह महीने से घर वापस लौटा था। पिता के कहने पर उसने अपने लिए नौकरी ढूढा था। परमेंद्र पिछले डेढ़ माह से विशाल के गाड़ी का ड्राईवर था।

सब्या के निकट लावारिस मिली हैं स्कार्पियों

गौरतलब है कि 07 नवंबर को एक साथ निकले तीन मित्र विशाल सिंह, परमेंद्र यादव व अंशु देर शाम तक अपने घर नहीं पहुंच सके। अगले दिन लापता विशाल सिंह की काली स्कार्पियों गाड़ी गोपालगंज जिले के मीरगंज थाना क्षेत्र के सब्या के निकट लावारिस हालत में बरामद की गई थी। जिसकी सूचना पुलिस ने परिजनों को दी गयी।