सिवान: प्रवेश करने वाले प्रमुख स्थलों पर कोरोना जांच सिर्फ खानापूर्ति

0
  • शनिवार को रेलवे स्टेशन पर करीब साठ यात्रियों की जांच की गयी थी
  • बस स्टैंड पर पड़ताल के दौरान नहीं मिली कोरोना की कोई जांच टीम

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के प्रवेश करने वाले अधिकतर प्रमुख स्थलों पर कोरोना की जांच नहीं की जा रही है, वहीं कई जगहों पर जांच सिर्फ खानापूर्ति ही है। जांच नहीं होने से कोरोना कभी भी अपना पांव पसार सकता है। वहीं जिले के सभी प्रखंडों में लगातार जांच अभियान चलाया जा रहा है। शनिवार को पड़ताल के दौरान रेलवे स्टेशन पर शाम चार बजे के बाद जांच टीम नजर नहीं आयी। आसपास मौजूद कर्मियों ने बताया कि दूसरे प्रदेशों से आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच को लेकर एक टीम यहां लगायी गयी है। लेकिन टीम सुबह दस बजे से शाम चार बजे तक ही रहती है। इसके बाद स्टेशन पर आने-जाने वालों की जांच नहीं होती है। मिली जानकारी के अनुसार शनिवार को करीब 60 यात्रियों की जांच की गयी थी, वहीं शुक्रवार को भी टीम ने करीब 60 यात्रियों की जांच की थी। वहीं बस स्टैंड पर पड़ताल के दौरान कोई जांच टीम नजर नहीं आयी। जबकि जिला में प्रवेश की दृष्टि से यहां भी दूसरे प्रदेशों से बसों के माध्यम से यात्रियों का आवागमन होता है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

शुक्रवार को कुल 7337 लोगों की जांच की गयी

स्वास्थ्य विभाग की ओर से दी गयी जानकारी के अनुसार शुक्रवार को जिले के विभिन्न प्रखंडों में करीब 7337 लोगों की जांच गयी। इनमें से रैपीड एंटीजन किट से 05 हजार 487 जबकि ट्रूनेट मशीन से करीब 63 वहीं आरटी-पीसीआर के लिए 01 हजार 787 लोगों की जांच सैंपल ली गयी थी। हालांकि गनीमत है कि कई महीनों से जिले में कोरोना का एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं मिला है।

निर्देश का कड़ाई से नहीं हो रहा है पालन

आगामी पर्व-त्योहारों को देखते हुए कोरोना जांच को लेकर हाल के ही दिनों में राज्य स्वास्थ्य समिति की ओर से सिविल सर्जन को पत्र लिखकर जरूरी निर्देश दिया गया था। बावजूद इसके इन निर्देशों का कड़ाई से पालन नहीं किया जा रहा है। पत्र में लिखा गया था कि जिला के सभी प्रमुख प्रवेश करने वाले स्थानों पर निश्चित रूप से जांच टीम लगायी जाए। इसमें रेलवे स्टेशन, बस अड्डा व अन्य प्रमुख स्थल शामिल थे। रैपीड एंटीजन जांच में पॉजिटिव मिले मरीज की आरटी-पीसीआर जांच भी कराने की सलाह दी गयी है। आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट निगेटिव आने की स्थिति में ही उक्त व्यक्ति को घर जाने की इजाजत दी जाने की बात कही गयी थी।