सिवान: अवैध बालु खनन मामले में हटाए गये एसडीओ सुनील कुमार सिंह की एसडीपीओ पत्नी श्वेता सिंह के नाम कई अचल संपत्ति का खुलासा, ईओयु कर सकती है पूछ ताछ

0

परवेज अख्तर/सिवान: डेहरी के तत्कालीन एसडीओ सुनील कुमार सिंह के साथ उनकी पत्नी की भी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। ईओयू की जांच में मिली अधिकांश अचल संपत्तियां उनकी पत्नी श्वेता सिंह के नाम पर खरीदी गई हैं। संपत्तियों का जो मूल्य हैं उसके मुताबिक उनकी आय नहीं है। ऐसे में जल्द ही पूछताछ के लिए ईओयू उन्हें बुला सकती है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

बीते शुक्रवार को पड़ा था छापा

अवैध बालू खनन में संलिप्तता के बाद आय से अधिक संपत्ति के मामले में घिरे सुनील सिंह के ठिकानों पर शुक्रवार को ईओयू ने छापेमारी की थी। पटना और गाजीपुर के अलावा पालीगंज में भी तलाशी ली गई थी। उनकी पत्नी श्वेता सिंह पालीगंज में एसडीपीओ हैं। सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के गाजीपुर के
रहने वाले सुनील कुमार सिंह ने ज्यादतर संपत्तियां लखनऊ में खरीद रखी है। लखनऊ के कुछ सोसाइटी में उनके फ्लैट और प्लॉट मिले हैं। इनमें से अधिकांश उनकी पत्नी श्वेता सिंह के नाम पर हैं।

आय से सवा करोड़ से अधिक की संपत्ति

सूत्रों के मुताबिक अबतक की जांच में सुनील कुमार सिंह और उनकी पत्नी के नाम जो संपत्तियां मिली हैं वह आय से सवा करोड़ रुपए से अधिक की है। इसके अलावा पत्नी के दफ्तर की तलाशी में कुछ निवेश से संबंधित ऐसे कागजात मिले हैं जिनका हिसाब संपत्ति विवरणी में नहीं दर्शाया गया है। उन्हें नोटिस देकर इस बाबत पूछताछ के लिए ईओयू जल्द बुला सकती है। यदि वह संतोषजनक जवाब और कागजात नहीं दे पाईं तो उन्हें भी आय से अधिक
संपत्ति मामले में आरोपी बनाया जा सकता है।

एसडीओ साहब ने टीवी फ्रीज तक हटा दिया था

डेहरी के तत्कालीन एसडीओ सुनील कुमार सिंह को अपने खिलाफ कार्रवाई का पहले से अंदेशा था। लिहाजा उन्होंने पटना स्थित घर से तमाम कीमती सामान हटा दिए थे। यहां तक की टीवी और फ्रीज भी नहीं था। सीवाए कुछ बर्तन और रोजाना उपयोग में आनेवाले सामान ही फ्लैट पर मिले। अधिकारियों का कहना है कि भले ही सामान फ्लैट से हटा लिए गए पर इससे कोई खास फर्क नहीं पड़नेवाला है। उनकी संपत्तियों का आकलन पहले ही किया जा चुका है
और वह आय से काफी अधिक है।