सिवान: डीएम ने चार दिनों के भीतर डायट में डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर बनाने का सीएस को दिया निर्देश

0

परवेज अख्तर/सिवान: जिला पदाधिकारी अमित कुमार पांडे ने सोमवार को समाहरणालय सभागार में अपर समाहर्ता, उप-विकास आयुक्त, सिविल सर्जन, अनुमंडल पदाधिकारी एवं प्रखंडों के वरीय पदाधिकारी के साथ कोविड-19 से संबंधित कार्यों की समीक्षा की. जिलाधिकारी द्वारा समीक्षा के क्रम में टेस्ट, ट्रेस, ट्रीट, कंटेन्मेंट, सेनेटाइजेशन के संबंध में कई आवश्यक निर्देश दिए गए. जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी सीवान सदर तथा महराजगंज को यह निदेश दिया कि सुबह से शाम सात बजे के अवधि में भ्रमणशील रहकर सार्वजनिक स्थलों पर कोविड अनुकूल व्यवहार के निमित इंफोर्समेंट सुनिश्चित किया करें. शाम सात बजे के समय विशेषकर शहरी निकायों में अंचल अधिकारी, थानाध्यक्ष के साथ सामूहिक रूप से अपने निर्धारित क्षेत्रों में दुकानों को बंद करने की कार्रवाई करें.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

यदि किसी दुकानदार द्वारा चेतावनी के वावजूद आदेश की अवहेलना की जाय ऐसी स्थिति में उनपर प्राथमिकी दर्ज कराये. उन्होंने अनुमंडल मुख्यालय में अविलंब क्वारन्टीन सेंटर चिन्हित करने का भी निर्देश दिया. जिलाधिकारी ने सिविल सर्जन को चार दिनों के अंदर डायट में डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर की व्यवस्था एवं उन में कार्य करनेवाले चिकित्सक एवं कर्मियों का रोस्टर बना कर प्रस्तुत करने का निदेश दिया. डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर का नोडल पदाधिकारी संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी होंगे. इसके अतिरिक्त सदर अस्पताल में तीन दिनों के अंदर पांच बेड का आईसीयू तैयार करने का निदेश दिया. उन्होंने कहा कि रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड,हाट-बाजारों में रैंडम टेस्ट हेतु कम से कम पांच दल का गठन कर प्रतिदिन तीन हजार कोविड जांच किया जाय.

जिलाधिकारी ने उपस्थित प्रखंडों के वरीय पदाधिकारियों से कहा कि वैक्सिनेसन, टेस्टिंग एवं कंटेन्मेंट से संबंधित पूरा कैंपेन की जवाबदेही आप सब की है. इस संबंध में नियमित रूप से सतत निगरानी एवं अनुश्रवण अपेक्षित है. उन्होंने कंटेन्मेंट जोन में रहने वाले लोगों का एएनएम के साथ समय-समय पर ऑक्सीजन लेबल जांच करने का निदेश दिया. साथ ही साथ ग्रामीण क्षेत्रों के भीड़-भाड़ वाले हाट-बाजारों में सप्ताह में दो या तीन बार कोरोना का रेंडम जांच सुनिश्चित करने का निदेश दिया. इस मौके पर जिला भू-अर्जन पदाधिकारी, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, स्वास्थ्य सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.