सिवान: रसोई गैस की कीमत बढ़ने से नहीं करा रहे रिफलिंग

0
  • लाभुकों का कहना है कि एक तो सब्सडी नहीं मिल रही, उपर से लगातार सिलेंडर के दाम बढ़ रहे हैं
  • सब्सिडी नहीं मिलने से उपभोक्ताओं पर पड़ रहा आर्थिक बोझ
  • 982.50 रुपये से बढ़ सिलेंडर का दाम हो गया 997 रुपए 50 पैसे
  • 25 से 30 फीसदी लाभुक ही सिलेंडर भरवा रहे हैं

परवेज अख्तर/सिवान: घरेलु एलपीजी सिलेंडर के बढ़ते दाम ने लोगों के घरों का बजट बिगाड़ दिया है। आलम यह है कि एलपीजी गैस सिलेंडर के दाम बढ़ने के कारण इस योजना से जुड़े लाभार्थियों ने गैस रिफिल कराना बंद कर दिया है। जिले में एक लाख से अधिक उज्जवला योजना के लाभुक हैं, लेकिन स्थिति यह है कि 25 से 30 फीसदी लाभुक ही रिफलिंग करा रहे हैं। कारण कि गैस सिलेंडर खरीदने के लिए लोगों को अधिक रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं। इस कारण से उज्जवला योजना का लाभ लेने वाले उपभोक्ताओं पर आर्थिक बोझ बढ़ गया है। हालांकि बीच-बीच में लाभुक कुछ उठाव कर भी रहे हैं, लेकिन कुछ लोग वह भी नहीं कर रहे हैं। मंगलवार की रात 982.50 रुपये से सिलेंडर का दाम बढ़कर 997 रुपये 50 पैसे हो गया। उज्जवला योजना से जुड़े एक तिहाई लाभुक रिफलिंग नहीं करा रहे हैं। अभी भी गांव में लोग लकड़ियों पर ही खाना बनाना पसंद कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि छोटा सिलेंडर अपनी सुविधा के लिए रखे हैं। लाभुकों का कहना है कि एक तो सब्सडी नहीं मिल रही, उपर से लगातार सिलेंडर के दाम बढ़ रहे हैं। इससे अच्छा तो लकड़ी के जलावन से ही भोजन बनाया जाए।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

पहले गैस सब्सिडी आती थी एकाउंट में

जिले में उज्जवला के करीब एक लाख कनेक्शन में 25 से 30 फीसदी लाभुक ही सिलेंडर भरवा रहे हैं। गैस सिलेंडर के दाम बढ़ने से लकड़ी या जलावन के अन्य चीजों का उपयोग कर भोजन बन रहा है। दूसरी तरफ छोटे-छोटे सिलेंडर का उपयोग फास्टफूड काउंटर, होटल या ढाबे पर हो रहा है। ग्रामीण इलाके में बिजली की फिक्स रेट रहने व बिजली की स्थिति में सुधार होने के कारण गैस की जगह हीटर पर भोजन बनाने की बात समाने आ रही है। लाभुकों का कहना है कि कीमत कम थी तो गैस पर बना भोजन सुकुन देता था, अब कीमत लगातार बढ़ रही है। सारा पैसा सिलेंडर भरवाने में लगा देंगे तो खाएंगे क्या। जिले के हसनपुरा प्रखंड के सहुली गांव की रेशमा खातून ने बताया कि पहले सरकार उज्जवला योजना के तहत मुफ्त में कनेक्शन दे दी लेकिन अब सब्सिडी नहीं मिल रही है। शहर के दक्खिन टोला के विकास चौहान ने बताया कि लगातार कीमत बढ़ने से गैस की रिफलिंग कराने में परेशानी हो रही है। उज्जवला योजना से जुड़े लाभुक विकास कुमार ने बताया कि लगातार कीमत बढ़ने से काफी परेशानी हो रही है। इस कारण से कभी-कभार रिफलिंग करा ली जाती है।

6 अक्टूबर से नई दर लागू

गैस सिलेंडर के बढ़े दाम की सूची भी चस्पा कर दी गई है। इसी क्रम में शहर के रामराज मोड़ के समीप रिचा इंडेन में नई दर चस्पा कर दी गई है।

  • 14 केजी – 997.50
  • 05 केजी – 368.00
  • नन-डोमेस्टिक
  • 19 केजी – 1942.00
  • 05 केजी एफटीएल न्यू कनेक्शन – 1483.00
  • 05 केजी एफटीएल रिफिल – 539.00
  • 05 केजी एफटीएल पीओएस न्यू कनेक्शन – 1502.00
  • 05 केजी एफटीएल पीओएस रिफिल – 558.00, 47.5 केजी – 4848.00
  • 19 केजी नैनो कट – 2202.50