​सिवान के युवक की सउदी में हत्‍या, शव के लिए भटक रही पत्‍नी

0

परवेज़ अख्तर/सिवान:- करीब डेढ़ माह पूर्व सिवान के एक युवक की हत्या सऊदी में कर दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में मृतक की पत्नी अपने पति के पार्थिव शरीर के लिए दिन रात अधिकारियों के चक्कर लगा रही है, लेकिन उसे निराशा ही हाथ लगी है। वहीं इस मामले में जिलाधिकारी महेंद्र कुमार ने प्रधान सचिव को पिछले महीने से पत्र के माध्यम से सारे घटनाक्रम की जानकारी दे दी, लेकिन बावजूद इसके अभी तक मृतक का शव उसके परिजनों को नसीब नहीं हो सका। मृतक आंदर थाना क्षेत्र के भरौली गांव निवासी अनुज राय बताया जाता है। वहीं बुधवार को मृतक के छोटे भाई अनीश राय ने एक बार फिर से अधिकारियों से मिलकर शव को सऊदी से अपने देश मंगवाने की मांग की। मामले में बताया जाता है कि आंदर थाना क्षेत्र के भरौली निवासी अनुज राय विगत छह वर्षों से सऊदी अरब के जद्दा में एक प्राइवेट कंपनी में कार्य करते थे। छह वर्षों में हुए कई मर्तबा अनुज राय घर आए और गए। आखरी बार पिछले वर्ष घर आए थे और छुट्टी खत्म होने के बाद वापस चले गए। परिजनों के अनुसार अनुज राय सऊदी अरब के मैसर्स मोहम्मद इब्राहिम अल मॉर्टन एंड पार्टनर्स फॉर ट्रेडिंग एंड कांट्रेक्टिंग कंपनी में ड्राइवर का काम करते थे। पत्नी सुप्रिया राय ने बताया कि 17 फरवरी को कंपनी के ही एक कर्मचारी उनके पति के मोबाइल से रात में कॉल कर उनकी मौत की सूचना दिया। मौत की सूचना पाते ही पूरे परिजनों में मातमी सन्नाटा छा गया। कॉल करने वाला व्यक्ति ने बताया कि कंपनी के ही एक कर्मचारी ने हत्या की नीयत से अनुज राय पर हमला कर दिया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए। इसके बाद उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी इलाज के क्रम में मौत हो गई। मौत की सूचना आते ही परिजन समेत सगे-संबंधियों में कोहराम मच गया। मौत की सूचना मिलने के बाद अनुज राय की पत्नी सुप्रिया राय एवं छोटा भाई अनीश राय ने जिलाधिकारी से मिल सारी व्यथा सुनाई। मौत की सूचना के बाद पत्नी सुप्रिया राय ने 19 फरवरी को जिलाधिकारी महेंद्र कुमार से मिल अपने भाई के शव को स्वदेश लाने की गुहार लगाई। पत्नी की गुहार पर जिलाधिकारी महेंद्र कुमार ने गृह विभाग के विशेष शाखा के प्रधान सचिव को इस बाबत पत्र के माध्यम से उनके पार्थिव शरीर स्वदेश लाने के बारे में आग्रह किया।

saudi me muder

लेकिन इस मामले में डेढ़ माह से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी मामले में कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है। जिससे परिजनों में मायूसी है। हर जनप्रतिनिधि से मिल सुनाई व्यथा, नहीं हुई अब तक कोई कार्रवाई घटना के बाद से ही बेसुध चल रही सुप्रिया ने अपने पति के शव को स्वदेश वापस मंगवाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने शुरू कर दिए अधिकारियों ने भी इस मामले में पत्राचार कर वरीय अधिकारियों को इसकी सूचना दे दी। लेकिन मामले में बात आगे बढ़ता ना देख। सुप्रिया ने अपने पति के पार्थिव शरीर को स्वदेश लाने के लिए भारतीय दूतावास, सांसद ओम प्रकाश यादव तथा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निजी सचिव तक गुहार लगाया, लेकिन डेढ़ माह बीत जाने के बाद भी पति का पार्थिव शरीर अभी तक परिजनों को नहीं मिला है। यहां तक कि भारतीय दूतावास ने जो भी कागजातों की मांग की थी वह सभी कागजात भारतीय दूतावास को परिजनों ने उपलब्ध करा दिया है। भारतीय दूतावास द्वारा पासपोर्ट, वीजा का फोटो स्टेट, इकामा, ड्राइविंग लाइसेंस समेत कई कागजात मांगे गए थे। जिस की कॉपी परिजनों ने भारतीय दूतावास को सौंप दी है। लेकिन बावजूद इसके सुनवाई करने वाला अभी तक कोई नहीं मिला है। पत्नी ने बताया कि सांसद ओम प्रकाश यादव से कई दफा मिलने का प्रयास किया गया तथा उनसे कॉल से बात किया गया लेकिन सांसद अभी तक एक बार भी परिजनों से नहीं मिले हैं और ना ही उन्होंने इस बारे में कोई उचित पहल की है। इस बारे में सांसद ओम प्रकाश यादव के निजी सचिव दिनेश पांडेय ने फोन पर जो भी जानकारी ली एवं उन्होंने भी जो कागजात मांगे वह उनको उपलब्ध कराए गए लेकिन वह भी इस पर क्या पहल किए है इसकी भी कोई जानकारी नहीं दी गई।

 

सुनसान पड़ा घर
सुनसान पड़ा घर
Loading...