सीवान ऑनलाइन न्यूज़ का असर :- चिकित्सक पर हुआ शो-कॉज, जवाब नहीं देने पर होगी विभागीय कार्रवाई

0
swasth mantri mangal pandey
  • ड्यूटी पर तैनात चिकित्सा पदाधिकारी की लापरवाही से पीड़ित महिला ने हॉस्पिटल के बेड पर तड़प – तड़प कर दी थी जान
  • मृतिका जी. बी. नगर थाना क्षेत्र के उसरी गांव की थी रहने वाली

परवेज़ अख्तर/सिवान : सिवान सदर अस्पताल में तैनात चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अरुण कुमार चौधरी पर सदर अस्पताल के हेडक्वार्टर द्वारा शो-कॉज किया गया है।अगर आरोपित चिकित्सक द्वारा पूर्ण रूप से शो -कॉज जवाब नहीं दिया गया तो उनके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की जाएगी। यहां बताते चलें कि बीते 18 अगस्त की रात्रि में सिवान जिले के जी. बी. नगर थाना क्षेत्र के उसरी गांव निवासी कुंवर गिरी की पत्नी मालती देवी को इलाज हेतु सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस दौरान ड्यूटी पर तैनात चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अरुण कुमार चौधरी मौजूद थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal
aaropit chikitsak
आरोपित चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अरुण कुमार चौधरी

पीड़ित मालती देवी की हालत बहुत ही खराब थी। जब परिजन ड्यूटी पर तैनात  चिकित्सक से उनके चेंबर में जाकर अपने पीड़ित मरीज को देखने की बात कही तो तैनात चिकित्सक द्वारा अपने विराजमान कुर्सी से बार-बार आरजू विनती के बावजूद भी नहीं उठा गया। जिसके चलते अंततः पीड़िता मालती देवी ने हॉस्पिटल के बेड पर तड़प तड़प कर जान दे दी थी। इसी मामले को सिवान ऑनलाइन न्यूज ने बड़ी ही प्राथमिकता से न्यूज़ को चलाया था। न्यूज़ वायरल होते ही अस्पताल महकमे में खलबली मची हुई थी और खबर वायरल होते ही अस्पताल प्रशासन ने चिकित्सक से चल रही खबर को लेकर तो शो-कॉज किया है।

matltidevi
मृतिका मालती देवी

 

यहां बताते चले कि उक्त चिकित्सक द्वारा अपने ड्यूटी के दौरान अपने विराजमान कुर्सी से कभी नहीं उठा जाता था। परिजनों के लाख आरजू विनती करने के बावजूद परिजन को वे डांट फटकार कर भगा देते है तथा हर- एक छोटी बड़ी बीमारी में सीटी स्केन तथा नाना प्रकार की जांच लिखना इनकी आदतों में शुमार है। इसी बात का उजागर सीवान ऑनलाइन न्यूज़ ने बड़ी ही प्राथमिकता पूर्वक एक अभियान चलाकर किया था। बहरहाल चाहे जो हो अब देखना है कि अस्पताल प्रशासन के जांच में क्या सही और क्या गलत पाया है यह तो गर्व की बात है लेकिन जिला प्रशासन को चाहिए कि मृतिका के प्रत्येक परिजनों का बयान लेकर उक्त चिकित्सक के विरोध कार्रवाई करनी चाहिए।