सिवान: खुदा की इबादत के पाक जगह पर वृद्ध की गला रेत हत्या

0

जमीनी विवाद में हत्या की आशंका जाहिर कर रहे लोग

✍️परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
मुफस्सिल थाना क्षेत्र के खालिसपुर गांव में खुदा की इबादत वाले पवित्र स्थान मस्जिद में सोए वृद्ध की गला रेत हत्या कर दी गई. घटना का कारण जमीनी विवाद बताया जा रहा है. चर्चा है कि मृतक के पट्टीदारों ने ही घटना को अंजाम दिया है. मृतक गांव के मरहूम मो.याकूब के 90 वर्षीय पुत्र मो.सफी थे. जानकारी के अनुसार वे गुरुवार की रात में सोने के लिए गांव की मस्जिद में चले गए. ऐसा अक्सर होता था. शुक्रवार की सुबह जुम्मे के नमाज के लिए जब मस्जिद की साफ-सफाई करने लोग पहुंचे, तो देखा कि मो.सफी का खून से लथपथ शव पड़ा हुआ है. खबर जंगल के आग की तरह पूरे क्षेत्र में फैल गई. जिसने भी सुना उसके मुंह से पहली बार यही निकला कि खुदा की इबादतगाह में ऐसी घटना को अंजाम देना हत्यारों पर काफी भारी पड़ेगा. फिलहाल घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमॉर्टम में सदर अस्पताल में भेज दिया. वृद्ध के मौत की खबर के बाद परिजन मातम मना रहे हैं.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
  • आखिरकार वही हुआ जिसका मृतक को था अंदेशा
  • शनिवार को जनता दरबार में सुनवाई से पहले ही हत्या 
  • महज एक कमरे के लिए गई मो.सफी की जान

मुफस्सिल थाना क्षेत्र के खालिसपुर गांव में वृद्ध मो.सफी की गला रेतकर हुई हत्या के बाद गांव के लोगों में भी आक्रोश दिख रहा है. लोग दबी जुबान इस बात की भी चर्चा कर रहे हैं कि जिसने भी यह कृत्य किया है उसे कुदरत की मार झेलनी पड़ेगी. मृतक के बेटे असफाक अहमद ने बताया कि पट्टीदारों ने ही एक कमरे पर कब्जा जमा लिया था. ऊंची पहुंच होने के कारण वे पंचायती की भी बात नकार गए थे. थक-हार कर पिता ने 4 जून को थाने में शमी अहमद समेत अन्य लोगों पर कमरे को जबरन कब्जाने का आरोप लगाते हुए आवेदन दिया था. आवेदन मिलने के बाद पुलिस गांव पहुंच जांच भी की. संपत्ति से जुड़ा विवाद होने के कारण 11 जून को लगने वाले जनता दरबार में बुलाया गया था. इसी बीच मो.सफी की हत्या कर दी गई.

जिसका था डर वही हुआ

मो.सफी उम्र के इस पड़ाव पर बीमार भी रहते थे. पट्टीदार अपने पैसों के दम पर जमीन कब्जाने की कोशिश में जुटे थे. सफी को अंदेशा था कि उनके साथ कभी भी कुछ हो सकता है. ऐसे में वे अक्सर जिला मुख्यालय में ही रहा करते थे. जब गांव में रहते थे तो सोने के लिए सबसे महफूज जगह जानकर मस्जिद में ही पहुंच जाते थे. उन्हें क्या पता था कि हत्यारे इस पवित्र जगह को भी अपने कृत्य से नापाक कर डालेंगे. वैसे पुलिस पूरे मामले की जानकारी लेने में जुटी हुई है. पुलिस का कहना है कि शीघ्र हत्या के कारणों का खुलासा होगा.