किसानों के समर्थन में सिवान से 60 वर्षीय बुजुर्ग 1000 KM साइकिल चलाकर पहुंचे टिकरी बॉर्डर

0

सिवान : दिल्ली की सरहदों पर नए कृषि कानूनों के खिलाफ नाराजगी जताते हुए किसानों को 3 हफ्तों से ज्यादा का समय गुजर चुका है. इस दौरान किसानों के समर्थन से जुड़ी कई कहानियां हमारे सामने आई हैं. बीते मंगलवार को ही संत बाबा राम सिंह ने किसानों के समर्थन में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी. इसके अलावा विपक्ष के नेताओं के प्रदर्शनों में पहुंचने के कई किस्से सामने आए, लेकिन सिवान के एक बुजुर्ग सत्यदेव मांझी के समर्थन ने सभी का ध्यान अपनी ओर खींचा है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

सीवान के रहने वाले 60 साल के सत्यदेव मांझी ने किसानों को समर्थन देने के लिए टिकरी बॉर्डर तक का सफर साइकिल पर ही पूरा किया है. मांझी दिल्ली-हरियाणा की टिकरी सीमा पर मौजूद किसानों में शामिल होने के लिए 1000 किमी साइकिल से ही चल दिए थे. समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने बताया कि उन्हें उनके गृह जिले सीवान से यहां पहुंचने में 11 दिन का समय लगा. उन्होंने सरकार से कानून वापस लेने की मांग की है.

satyadev majhi

मांझी बताते हैं कि मैंने सरकार से तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का आग्रह किया है. खास बात है कि मांझी यहां किसान आंदोलन खत्म होने तक रुकने की बात कह रहे हैं. राजधानी दिल्ली से जुड़े कई राज्यों की सीमाओं पर किसानों का प्रदर्शन बीते 26 नवंबर से जारी है. किसान लगातार सरकार से कानूनों को वापस लेने की अपील कर रहे हैं. हालांकि, किसानों को कानूनों में संशोधन के प्रस्ताव दे चुकी सरकार भी कानून वापसी के लिए तैयार नहीं है.