सीवान के आठों विधानसभा क्षेत्र में निर्दलीय प्रत्याशियों की सक्रियता से दलीय उम्मीदवारों के छूट रहे हैं पसीने !

0
  • आठों विधानसभा क्षेत्र में एनडीए गठबंधन बनाम महागठबंधन के बीच होगा रोमांचक मुकाबला !
  • निर्दलीय प्रत्याशी के चुनाव मैदान में डटे रहने के कारण त्रिकोणीय लड़ाई होने के आसार कई विधानसभा क्षेत्रों में
  • केवट रूपी मतदाता नाव को कैसे लगाएंगे पार ?

परवेज़ अख्तर/सिवान:

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में होने वाले मतदान आगामी तीन नवंबर को सीवान में होना तय है। सीवान के आठों विधानसभा क्षेत्र में एनडीए गठबंधन , महागठबंधन, लोजपा, रालोसपा, आजाद समाज पार्टी, जन अधिकार पार्टी, समेत अन्य दलों ने अपने-अपने प्रत्याशियों को चुनावी जंग में उतारा है। इसके साथ ही सभी विधान सभा क्षेत्रों में कई दिग्गज निर्दलीय प्रत्याशी भी चुनाव मैदान में आकर अपनी भाग्य को आजमा रहे हैं। प्रचार प्रसार भी अंतिम चरण में है। सभी दलों के स्टार प्रचारकों का राजनीतिक मंच विधानसभा क्षेत्र के अलग-अलग हिस्सों में लग रहा है।सभी स्टार प्रचारक अपनी-अपनी पार्टी के पक्ष में स्टेज के जरिए वोट बैंक को इकट्ठा करने में लगे हुए हैं।

उधर सोशल मीडिया के जरिए भी एनडीए गठबंधन तथा महागठबंधन के लोग मतदाताओं को रिझाने में तरह-तरह की पोस्ट वायरल कर रहे हैं। उधर क्षेत्रों में निर्दलीय प्रत्याशियों द्वारा भी तरह-तरह की तरकीब अपना कर अखाड़े के मैदान को और रोचक बना रहे है। लेकिन कुल मिलाकर सीवान के आठों विधानसभा क्षेत्र में यह देखा जा रहा है कि यहां एनडीए गठबंधन बनाम महागठबंधन के बीच आगामी तीन नवंबर को रोमांचक मुकाबला होना तय है। कई विधानसभा क्षेत्रों में कई दिग्गज निर्दलीय प्रत्याशियों के चुनाव मैदान में डटे रहने के कारण यहां एनडीए गठबंधन तथा महागठबंधन के कई प्रत्याशियों को नुकसान भी हो सकता है ! कई निर्दलीय प्रत्याशी एनडीए गठबंधन तथा महागठबंधन के सिंबल को पाने के लिए लगातार कई महीनों से प्रयासरत थे लेकिन उनके अथक प्रयास के बावजूद पार्टी द्वारा उन्हें सिंबल नहीं मिलने के कारण वे नाराज होकर करीब-करीब सीवान के आठों विधानसभा क्षेत्र में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में डटे हुए हैं।

सीवान के आठों विधानसभा क्षेत्र से कुछ ऐसे विधानसभा क्षेत्र से यह खबर आ रही है कि निर्दलीय प्रत्याशी के चुनाव मैदान में डटे रहने के कारण त्रिकोणीय लड़ाई होने के आसार हैं। उधर त्रिकोणीय लड़ाई जिस-जिस विधानसभा क्षेत्र में होने के आसार दिख रहे हैं। उस को ध्वस्त करने के लिए एनडीए गठबंधन तथा महागठबंधन के प्रत्याशी तरह-तरह की तरकीब अपना कर मतदाताओं को अपनी-अपनी ओर मोड़ ले रहे हैं।कुल मिलाकर अभी तक सीवान के आठों विधानसभा क्षेत्र से यह पूर्ण रूप से खबर नहीं आ रही है। कि यहां से निर्दलीय प्रत्याशी के सर पर मतदाता जीत का सेहरा बांधने के लिए तैयारी में है ! हालांकि सीवान के कुछ ऐसे विधान सभा क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं।

जो राजनीति के मंझे खिलाड़ी के रूप में जिले में उनकी एक पहचान होती है। और निर्दलीय प्रत्याशी रहते हुए भी उनको सभी वर्गों का समर्थन पूर्ण रूप से क्षेत्रों में बरकरार है। लेकिन इस बार के चुनाव में मतदाता खुलकर उनके पक्ष में आने को हरगिज तैयार नहीं हैं। सीवान के आठों विधानसभा क्षेत्र में एनडीए गठबंधन तथा महागठबंधन तथा कई दिग्गज निर्दलीय प्रत्याशी भी अपनी-अपनी वैतरणी को पार करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। कई विधानसभा क्षेत्रों में कई प्रत्याशी अपने जातीय समीकरण के आधार पर तथा कई प्रत्याशी अपने पार्टी के सिंबल पर नैया पार करने के भरोसे हैं। लेकिन केवट रूपी मतदाता उस नाव को कैसे पार लगाएंगे यह तो गर्व की बात है ! सीवान में फिलहाल चुनावी सरगर्मी काफी तेज है। जिले के विभिन्न चौक चौराहों पर लोग चाय के चुस्की के साथ राजनीतिक बातें छेड़ कर चुनावी बहस शुरू कर दे रहे हैं।