डेंगू के खतरे से रहें सतर्क, घर में और आस-पास रखें स्वच्छता का ध्यान: डॉ. हरेंद्र

0
  • जलजमाव की स्थिति दे सकती है खतरे की घंटी
  • कोरोना के साथ–साथ डेंगू से बचाव के प्रति जागरूक रहना भी जरूरी
  • डेंगू को लेकर अलर्ट मोड पर है स्वास्थ्य विभाग
  • सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध है इलाज की व्यवस्था

गोपालगंज: जिले में कोरोना संक्रमण का रफ्तार काफी कम हो चुकी है, लेकिन अब जिले के लोगों को कोरोना के अलावा डेंगू बीमारी का भी भय सताने लगा है। अभी के मौसम में ना गर्मी ज्यादा है और ना ही सर्दी. ऐसे मौसम में डेंगू के मच्छर ज्यादा पनपते हैं. ऐसा मौसम डेंगू के लिए अनुकूल माना जाता है. इसलिए कोरोना के इस काल में कोरोना के साथ–साथ डेंगू से बचाव के प्रति जागरूक रहना भी जरूरी है। जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. हरेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि डेंगू मच्छर जनित रोग है जो एक गंभीर बीमारी की श्रेणी में आता है। डेंगू से बचाव के लिए लोगों को साफ सफाई एवं जागरूकता जरूरी है। जिले में डेंगू को लेकर समय समय पर अभियान चला कर दवा का छिड़काव किया जाता है। डेंगू बीमारी को लेकर स्वस्थ विभाग कार्यरत है।सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर इलाज की सुविधा उपलब्ध है। जिले में अब तक कोई मरीज नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि डेंगू बीमारी से बचने के लिए लोगो को साफ-सफाई पर अत्यधिक ध्यान देने की जरूरत है। लोग अपने आस-पास पानी न जमा होने दे, घर मे भी साफ सफाई का पूरा ख्याल रखें एवं सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग जरूर करें।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
adssssssss
a2

जलजमाव व गंदगी है डेंगू का कारण

जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. हरेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया जिले के शहरी क्षेत्रों में हो रहे गंदे पानी का जलजमाव एवं सड़कों तथा गलियों में गंदगी डेंगू का मुख्य वजह बन रहा है। लोग डेंगू के प्रति सचेत रहें. घर के आसपास पानी का जमाव नहीं होने दें। इससे मच्छर नहीं पनपेगा और आपका डेंगू से बचाव होगा। उन्होंने बताया इस मौसम में डेंगू के ज्यादा मामले सामने आते हैं. अभी से लेकर नवंबर महीने तक लोगों में डेंगू होने की आशंका अधिक रहती है। इसलिए अभी सावधान रहने की जरूरत है।

डेंगू के मुख्य लक्षण

एडीज नामक मच्छर के काटने से डेंगू बुखार होता है। डेंगू के मच्छर अक्सर जमे हुए पानी में पनपते हैं जो ज्यादातर दिन में ही काटते हैं। डेंगू को हड्डी तोड़ बुखार भी कहा जाता है। 3 से 7 दिन तक लगातार बुखार, सिर में दर्द, पैरों के जोड़ों व आंख के पीछे तेज दर्द, चक्कर एवं उल्टी आना, शरीर पर लाल चकत्ते आना इसका मुख्य लक्षण है।

ऐसे करें बचाव

  • घर में साफ सफाई पर ध्यान रखें
  • कूलर एवं गमले का पानी रोज बदलें
  • सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें
  • मच्छर भागने वाली क्रीम का इस्तेमाल दिन में करें
  • पूरे शरीर को ढंकने वाले कपडे पहने एवं कमरों की साफ़-सफाई के साथ उसे हवादार रखें
  • आस-पास गंदगी जमा नहीं होने दें
  • जमा पानी एवं गंदगी पर कीटनाशक का प्रयोग करें
  • खाली बर्तन एवं समानों में पानी जमा नहीं होने दें
  • जमे हुए पानी में मिट्टी का तेल डालें
  • डेंगू के लक्षण मिलने पर तुरंत ही नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में संपर्क करें

कोरोना काल में इन उचित व्यवहारों का भी करें पालन 

  • एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
  • सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
  • अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
  • आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
  • छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here