विद्यार्थी में अच्छे बुरे की परख होनी चाहिए : जिला जज​

0

परवेज़ अख्तर/​सिवान :- शिक्षा व्यक्ति में सद्गुण लाती है। विद्यार्थियों को प्रारंभ से ही अच्छे बुरे कर्मों में भेद करने की आदत डालनी चाहिए। उक्त बातें जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह जिला विधिक सेवा प्राधिकर के अध्यक्ष ओम प्रकाश राय ने मंगलवार को डीएवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में बच्चों के लिए आयोजित लीगल लिट्रेसी क्लब (विधिक साक्षरता क्लब) कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कही। इस अवसर पर नेशनल लीगल सर्विस अथॉरिटी नई दिल्ली द्वारा अनुदानित पूर्ण सुसज्जित कंप्यूटर कक्ष का दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया। ततपश्चात उन्होंने शिक्षक एवं छात्रों को विधिक साक्षरता क्लब में प्राप्त होने वाली आवश्यक कानूनी जानकारी की आवश्यकता पर न केवल प्रकाश डाला बल्कि यह भी बताया कि कानून की सामान्य जानकारी बच्चों को क्यों आवश्यक है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकर के सचिव एसके त्रिपाठी ने कहा कि जिले के कुल 73 उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में लीगल लिट्रेसी क्लब के माध्यम से बच्चों में कानून की बेसिक जानकारियां उपलब्ध कराई जा रही है। इससे बच्चों में अच्छे कार्य करने तथा कानूनी प्रक्रिया में होने वाली क्रियाकलापों की जानकारी हो सकेगी। यह बच्चों को दिग्भ्रमित होने से भी बचाएगी। उन्होंने कहा कि नालसा के द्वारा जिले के कुल पांच विद्यालयों को चिह्नित किया गया है जहां नालसा द्वारा अनुदानित पूर्ण सुसज्जित कंप्यूटर कक्ष तथा कानून की कुल 25 पुस्तकों की एक लाइब्रेरी दी जाएगी, जिसके माध्यम से बच्चों को कानून की जानकारी दी जाएगी। कार्यक्रम में जिला शिक्षा पदाधिकारी चंद्रशेखर राय ने कहा कि इससे बच्चों का न केवल मानसिक विकास होगा बल्कि वे गलत कार्यो को करने से बचेंगे। इस अवसर पर सिविल कोर्ट के नाजिर जय किशोर शर्मा,डीएलएसए के रिटेनर एडवोकेट डॉ. विजय कुमार पांडेय, लोक अदालत के कर्मी दीपक मिश्रा, रंजीत दुबे, अतुल कुमार सहित विद्यालय के कर्मचारी एवं एनसीसी के कैडेट उपस्थित थे। अंत में विद्यालय की प्राचार्या आशा कुमारी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।​