होम आइसोलेशन में बरतें विशेष सावधानी, रखें खानपान का ध्यान

0
  • स्वास्थ्य विभाग द्वारा बताये गए नियमों का पूरी तरह पालन करें
  • उपचाराधीन व्यक्ति के साथ-साथ परिवार के लोग भी सकारात्मक सोंच रखें
  • टेली मेडिसीन की मिलेगी सुविधा

छपरा: कोविड-19 के बहुत हल्के या बिना लक्षण वाले उपचाराधीन और उनकी देखभाल करने वाले व्यक्ति को होम आइसोलेशन के दौरान कुछ खास सावधानी बरतनी चाहिए ताकि वह जल्द से जल्द कोरोना को मात दे सकें । होम आईसोलेशन का अर्थ यह नहीं है कि आप पूरी तरह सुरक्षित हैं. इस दौरान भी चिकित्सकीय सलाह के पालन करने के साथ सतर्कता बरतनी जरुरी है. किसी भी तरह की लापरवाही आपके साथ घर वालों को भी खतरे में डाल सकता है । कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है। ऐसे में यदि घर पर कोई व्यक्ति संक्रमित है तो परेशान होने या घबराने की जरूरत नहीं है। थोड़ी सी सावधानी बरतें और खानपान पर ध्यान दें तो मरीज भी जल्दी स्वस्थ होगा और परिवार के अन्य सदस्य भी सुरक्षित रहेंगे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
vigyapann
ads

उपचाराधीन व्यक्ति के साथ-साथ परिवार के लोग भी सकारात्मक सोंच रखें

प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. अजय कुमार शर्मा ने बताया कि घर के सदस्य कोविड उपचाराधीन व्यक्ति की सोच को सकारात्मक रखने में मदद करें तथा परिवार के लोग स्वयं भी सकारात्मक रहें। उसके साथ सहानुभूति रखें और बताएं कि यह किसी को भी हो सकता है। घर के सभी सदस्य दोबारा उपयोग में लाए जाने वाले सूती कपड़े के तीन लेयर वाले मास्क का उपयोग करें और संक्रमित से 6 फीट की दूरी बनाकर रखें। अगर किसी को उपचाराधीन व्यक्ति के पास जाना है तो बगैर मास्क के न जाएं। उपचाराधीन और तीमारदार तीन लेयर वाले मेडिकल मास्क का प्रयोग करें। मास्क को निश्चित समय के बाद 1 फीसद हाइपोक्लोराइड के घोल में डुबोकर बंद डस्टबिन में डाल दें। उपचाराधीन को गंभीर बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों, बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं एवं छोटे बच्चों के संपर्क में नहीं आना है। उन्होंने बताया कि परिवार के सदस्यों को सतर्क रहना बहुत जरूरी है।

नियमित रूप से हाइपोक्लोराइड के घोल से करें सफाई

घर के सभी ऐसी जगह, सतह और चीजें जो बार-बार छुई जाती हैं उन्हें भी नियमित रूप से हाइपोक्लोराइड के घोल से पोछकर विसंक्रमित करें। इसके अलावा उपचाराधीन व्यक्ति और परिवार के सदस्यों को संतुलित और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले भोज्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इसमें आप विटामिन सी युक्त फल, हरी पत्तेदार सब्जियां, हल्दी वाला दूध, मौसमी फल व सब्जियां आदि ले सकते हैं। जहां तक संभव हो घर के सभी सदस्य गुनगुने पानी का उपयोग करें। गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर उसका सेवन करें।

अपने स्वास्थ्य की नियमित निगरानी रखें

होम आईसोलेशन में रहने वाले उपाचाराधीन व्यक्तियों को अपनी स्वास्थ्य की निगरानी करते रहना चाहिए। हल्का बुखार है तो डॉक्टर को बताएं। घर पर पल्स ऑक्सीमीटर, थर्मामीटर, मास्क, ग्लव्स, प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने वाली वस्तुएं रखें। संक्रमित का दिन में दो बार ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल और तापमान लेना है। कोविड उपचाराधीन मरीज एवं तीमारदार अपने स्वास्थ्य की नियमित निगरानी की जिम्मेदारी लेते हुए स्वास्थ्य कर्मियों को इसकी नियमित सूचना देते रहें.

टेली मेडिसीन की मिलेगी सुविधा

आशा कार्यकर्ता मरीज एवं उनके परिजनों को टेली मेडिसीन की सुविधा उपलब्ध कराएगी। घर बैठे 8010111213 पर मिस्ड कॉल देकर चिकित्सीय सलाह प्राप्त कर सकते हैं। 102 नंबर पर कॉल कर एंबुलेंस की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं। 104 नंबर पर कॉल कर चिकित्सीय परामर्श प्राप्त कर सकते हैं।

मरीजों से बात करेंगे चिकित्सक

होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के स्वास्थ्य की देखभाल प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक प्रतिदिन दूरभाष के माध्यम से कर रहे है। मरीजों का हालचाल जानने के बाद चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराया गया है।

होम आइसोलेशन की शर्ते

  • घर में होम आइसोलेशन की सुविधा उपलब्ध हो।
  • दो कमरा और दो शौचालय होना चाहिए।
  • नियमित रूप से अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा।
  • कोरोना से संबंधित किसी भी प्रकार का लक्षण आने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क करना होगा। ताकि इलाज की समुचित व्यवस्था की जा सके।
  • सैंपल देने के दस दिनों बाद होम आइसोलेशन समाप्त हो जाएगा। बशर्ते उनमें कोरोना का कोई लक्षण नहीं हो।
  • होम आइसोलेशन में रह रहे व्यक्ति को निर्धारित प्रपत्र में एक घोषणा पत्र जिलाधिकारी को देना होगा।