लक्ष्य निर्धारित: अब जिले में प्रतिदिन होगी 1000 आरटीपीसीआर व 250 ट्रूनेट सैंपल की जांच

0
  • कार्यपालक निदेशक ने किया लक्ष्य निर्धारित
  • आईजीआईएमएस में भेजा जाता है सारण का आरटीपीसीआर सैंपल

छपरा: जिले में कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के द्वारा सकारात्मक पहल की जा रही है। इसी कड़ी में विभाग ने कोरोना जांच में तेजी लाने के उद्देश्य से नये लक्ष्य को निर्धारित किया है। अब सारण जिले में प्रतिदिन 1000 आरटीपीसीआर तथा 250 ट्रूनेट सैँपल कलेक्शन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस संबंध में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि जिले के अरटीपीसीआर एवं ट्रूनेट से जाँच के लिए नमूना संग्रहण के लक्ष्य को पुनरीक्षित करने की आवश्यकता समझी गई है। जिलावार आरटीपीसीआर एवं ट्रूनेट से जाँच के लिए नमूना संग्रहण का संशोधित लक्ष्य दिया गया है। पत्र के माध्यम से निर्देश दिया गया है कि अपने लक्ष्य के अनुरूप कोविड टेस्टिंग कार्य सम्पन्न करें। राज्य में कोविड के पॉजिटिवीटी रेट में लगातार कमी को देखते हुये आईसीएमआर के निदेश के अनुसरण में पूल टेस्टिंग किया जा सकता है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

सिविल सर्जन डॉ. जर्नादन प्रसाद सुकुमार ने कहा कि जांच में तेजी लाने के उद्देश्य से यह निर्णय लिया गया है। जितनी अधिक जांच होगी, कोरोना के खिलाफ लड़ाई उतनी ही मजबूत होगी। उन्होंने जिलावासियों से अपील करते हुए कहा कि अगर कोरोना के माइनर लक्षण भी दिखे तो कोविड-19 जांच जरूर कराएं। जितना जल्दी जांच होगा उतना ही जल्दी उपचार शुरू होगा. इससे स्थिति गंभीर होने से बच सकती है। साथ ही इससे कोरोना के मामलों में भी कमी आएगी.गा बीमारी को छुपाने से स्थिति गंभीर हो सकती है, इसलिए बीमारी छुपाएं नहीं।

गांव स्तर पर किया जा रहा जांच

स्वास्थ्य विभाग की टीम जिले के विभिन्न क्षेत्रों में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग के माध्यम से कोरोना टेस्ट करने का काम कर रही है। पर्याप्त मात्रा में एंटीजन किट के साथ लैब टेक्नीशियन की ड्यूटी लगाई गई है। शहरों, बाजारों और गांव में स्थान चिन्हित कर जांच की जा रही है।

संक्रमण के मामले में आ रही है कमी

जिले में कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की संख्या में लगातार कमी आ रही है। यह जिले के लिए अच्छी खबर है। लॉक डाउन का सकारात्मक प्रभाव देखने को मिला है। संक्रमण के मामले भले ही कम हो गये हो लेकिन आमजनों को अभी भी सावधानी बरतनी जरूरी है। थोड़ी सी लापरवाही भारी पड़ सकती है। विशेष जरूरत होने पर हीं घर से बाहर निकलें। मास्क का उपयोग, शरीरिक दूरी का पालन तथा साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें। लक्षण दिखने पर कोरोना का जांच कराएं।

ऐसे रोकें संक्रमण का प्रसार

  • एक साथ 2 मास्क का प्रयोग करें
  • आंतरिक स्थानों पर वायु संचार सुनिश्चित करें
  • दूरी बनायें रखने की संभव प्रयास करें
  • साबुन से नियमित हाथ साफ़ करते रहें
  • कोविड मरीजों को अलग कमरे में रखें
  • सतहों को नियमित रूप से कीटाणुनाशकों से नियमित रूप से साफ़ करें